डोनाल्‍ड ट्रंप ने दे दिए थे ईरान पर सैन्‍य हमले के आदेश, आखिरी मौके पर टाला फैसला

अमेरिका की ओर से यह फैसला ईरान द्वारा उसके ड्रोन को मार गिराए जाने के बाद किया गया है.

नई दिल्‍ली: अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने सेना को ईरान पर हमले की इजाजत दे दी थी. न्‍यूयॉर्क टाइम्‍स की एक रिपोर्ट में ऐसा कहा गया है. हालांकि आखिरी समय पर ट्रंप ने अपने निर्देश वापस ले लिए. फाइटर जेट और लड़ाकू जहाज हमले को तैयार थे, मगर आदेश के बाद कोई मिसाइल नहीं दागी गई. अमेरिका और ईरान के बीच पिछले कुछ महीनों में तनाव लगातार बढ़ रहा है.

राष्ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने पिछले साल मई में परमाणु समझौते से अमेरिका को अलग कर दिया था और इस्लामिक गणराज्य पर ऊर्जा और आर्थिक प्रतिबंध दोबारा लगा दिए थे. ईरान के खतरों के बहाने अमेरिका ने पिछले कुछ सप्ताहों में क्षेत्र में भारी मात्रा में सेना तैनात कर दी है. पेंटागन ने सोमवार को मध्य एशिया में 1,000 अन्य सैनिकों को तैनात करने की घोषणा की थी.

दूसरी तरफ, ईरान और अमेरिका के बीच तनाव से हवाई सेवाओं पर असर पड़ा है. ईरानी हवाई क्षेत्र के कुछ हिस्‍सों से उड़ान भरने पर अमेरिका ने रोक लगा दी है. यहां की यूनाइटेड एयरलाइंस ने एक बयान में कहा कि उसने न्‍यूयॉर्क/नेवार्क और मुंबई के बीच अपनी उड़ानें स्‍थगित करने का फैसला किया है. एयरलाइंस ने कहा है कि जिन यात्रियों ने मुंबई का टिकट कराया है, वह उनकी दोबारा से बुकिंग करेगी.

अमेरिका के नागरिक उड्डयन विभाग ने पर्शियन गल्‍फ और गल्‍फ ऑफ ओमान में की सभी फ्लाइट्स को प्रतिबंधित कर दिया है. अमेरिका की ओर से यह फैसला ईरान द्वारा उसके ड्रोन को मार गिराए जाने के बाद किया गया है. अमेरिका के ‘आरक्यू-4 ग्लोबल हॉक ‘ को ईरानी वायुसेना ने कोह-ए मुबारक क्षेत्र के पास मार गिराया. ऐसा मानव रहित विमान के ईरान के वायुक्षेत्र का उल्लंघन करने पर किया गया. हालांकि अमेरिकी सेना ने कहा कि यह अंतर्राष्ट्रीय जल क्षेत्र के ऊपर था.

अमेरिका से भारत आने का एक और हवाई रूट है- नेवार्क से दिल्‍ली, मगर यह भी पाकिस्‍तानी एयरस्‍पेस बंद होने के चलते इस्‍तेमाल नहीं हो रहा. पिछले महीने, अमेरिका ने अपनी एविएशन कंपनियों से कहा था कि वे ईरान और आसपास के उड़ान भरते समय सावधान रहें.

ये भी पढ़ें

अमेरिका-ईरान के बीच युद्ध हुआ तो? पूरी दुनिया में आसमान पर होंगे तेल के दाम

भारत में बनेंगी 6 टोही पनडुब्बियां, कम से कम 50 हजार करोड़ रुपये होंगे खर्च