ग्रीनलैंड खरीदने की बात पर फंसे ट्रंप, डेनमार्क ने फिरकी लेकर कहा- अमेरिका को खरीदने के लिए तैयार

ट्रंप कुछ भी कर दें तो अब हैरानी नहीं होती लेकिन एक देश को खरीदने की बात पर अड़कर उन्होंने अपनी ही किरकिरी करा ली. अब डेनमार्क अमेरिका की कीमत लगा रहा है.

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के ग्रीनलैंड को खरीदने के बयान के बाद डेनमार्क की तरफ से करारा जवाब आ गया है. डेनमार्क ने कहा है कि वो अमेरिका को खरीदने में दिलचस्पी रखता है.

डेनमार्क सरकार के प्रवक्ता ने कहा कि जैसा कि हम साफ कर चुके हैं कि ग्रीनलैंड बिकाऊ नहीं है लेकिन ट्रंप के कार्यकाल में अमेरिका में उसकी सरकार समेत सब कुछ बिक्री के लिए उपलब्ध है. डेनमार्क पूरे अमेरिका को खरीदने के लिए तैयार है, सिवाय उसकी सरकार के.

शायद आपको ये सब सुनकर अजीब लग रहा होगा लेकिन आपको इस पूरे मामले की भूमिका भी बता देते हैं. दरअसल राष्ट्रपति ट्रंप को डेनमार्क की रानी मारग्रेथ द्वितीय की ओर से दौरे का न्योता मिला था. ट्रंप को पीएम से मिलना था और कारोबारियों से बातचीत करनी थी लेकिन ग्रीनलैंड वाले विवाद के बाद अब ये दौरा रद्द कर दिया गया है. खुद ट्रंप ने अपना दौरा कैंसिल किया है.

खबरों के मुताबिक साल 2018 में ओवल ऑफिस के अंदर चल रही एक बैठक के दौरान ट्रंप ने मज़ाक में ग्रीनलैंड खरीदने की बात कह दी थी. इसके बाद कई बातें सामने आईं. ट्रंप ने अपने सहयोगियों से कई बार कहा भी कि क्या वो ग्रीनलैंड खरीदने की डील पर काम कर सकते हैं या क्या वो इस डील को सील कर सकते हैं?

15 अगस्त को अखबार वॉल स्ट्रीट जर्नल पर ये ख़बर चल निकली कि ट्रंप ग्रीनलैंड खरीदने के इच्छुक हैं. अगले ही हफ्ते ट्रंप का डेनमार्क दौरा था तो इस बात ने ज़ोर पकड़ लिया. आपको बता दें कि ग्रीनलैंड स्वायत्त है लेकिन डेनमार्क का ही हिस्सा माना जाता है इसलिए डेनमार्क से ही प्रतिक्रिया आनी भी थी. पहले पहल लोगों को लगा कि ये सब मज़ाक में चल रहा है लेकिन फिर खुद ट्रंप ने ही 19 अगस्त को पत्रकारों से ग्रीनलैंड को खरीदने की दिलचस्पी से अवगत करा दिया. उन्होंने कहा कि सामरिक तौर पर ये बेहद दिलचस्प लोकेशन है और हम इसकी खरीदारी में रुचि रखते हैं. हम इस पर डेनमार्क से बात करेंगे मगर डेनमार्क जाने का मेरा ये उद्देश्य नहीं है, मैं इतना ज़रूर कह सकता हूं.

ट्रंप को इतना ही काफी नहीं लगा और उन्होंने एक तस्वीर ट्वीट कर डाली जो एडिटिड थी. इस तस्वीर में ग्रीनलैंड की ज़मीन पर ट्रंप टावर दिखाया गया था.. ट्रंप ने इस तस्वीर में कैप्शन जोड़ा- मैं ग्रीनलैंड के साथ ऐसा नहीं करने का वादा करता हूं.

ऐसे ट्वीट को देखकर लोग हैरान होते रहे और तीखी प्रतिक्रिया दर्ज कराते गए. ये सब अभी चल ही रहा था कि 21 अगस्त को ट्रंप ने फिर से दो ट्वीट कर दिए और एलान कर दिया कि वो डेनमार्क का दौरा रद्द कर रहे हैं. वजह भी बताई. लिखा कि डेनमार्क की प्रधानमंत्री ग्रीनलैंड की खरीद-फरोख्त पर बातचीत के लिए रुचि नहीं दिखा रही हैं इसलिए वो फिर कभी के लिए अपना दौरा रद्द कर रहे हैं. वैसे आपको बता दें कि पहले ट्रंप अपने बयान में कह चुके थे कि वो ग्रीनलैंड के सौदे के लिए डेनमार्क नहीं जा रहे.

आपको बता दें कि 19 अगस्त को ही डेनमार्क की प्रधानमंत्री मेटे फ्रेडरिकशन ने ग्रीनलैंड वाली बात पर दो टूक जवाब दे दिया था. उन्होंने कहा था कि ग्रीनलैंड डेनमार्क की संपत्ति नहीं है. ग्रीनलैंड ग्रीनलैंडवासियों का है. मुझे उम्मीद है कि इस प्रस्ताव में कोई गंभीरता नहीं है. शुक्र है कि दूसरे देशों और आबादी को खरीदने-बेचने का ज़माना बीत चुका है. मज़ाक की बात अलग है मगर हम अमेरिका के साथ करीबी रिश्ते रखना चाहते हैं.

बहरहाल, ट्रंप ने दौरा रद्द कर दिया है और वो भी एक ऐसी बेहूदी-बचकानी बात पर जो चुटकुले के तौर पर शुरू हुई थी. हैरानी है कि ट्रंप की जिस बात को गंभीर नहीं माना जा रहा था उसके चलते उन्होंने डेनमार्क का दौरा तक रद्द कर दिया. उनकी इस बात का विरोध ना सिर्फ डेनमार्क और ग्रीनलैंड में हुआ बल्कि अमेरिका में भी खूब हल्ला मचा.