न्यूजीलैंड हमले के बाद जागा फेसबुक, लाइव स्ट्रीम पर कसेगा लगाम

पिछले दिनों न्यूजीलैंड की मस्जिद में हमला कर लगभग 50 लोगों की हत्या करने वाले हमलावर ने फेसबुक पर हमले को लाइव स्ट्रीम किया था

नई दिल्ली: न्यूजीलैंड की दो मस्जिदों में करीब 50 लोगों की हत्या करने वाले हमलावर ने गोलीबारी का फेसबुक पर लाइव स्ट्रीम किया था. अपने इस प्लेटफॉर्म का हमलावर द्वारा इस्तेमाल किए जाने के चंद दिनों बाद फेसबुक ने तय किया है कि वह लाइव स्ट्रीमिंग वीडियो नियमों को कड़ा करेगा. फेसबुक की चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर शेरिल सैंडबर्ग ने एक पोस्ट के जरिए यह जानकारी दी.

फेसबुक उठाएगा तीन कदम

आरटीई की रिपोर्ट के मुताबिक उन्होंने अपनी पोस्ट में लिखा कि कई लोगों ने सवाल किया है कि फेसबुक जैसे ऑनलाइन प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल हमले के भयानक वीडियो को प्रसारित करने के लिए कैसे किया गया. इसी के साथ उन्होंने कहा, ‘आतंकवादी हमले के मद्देनजर, हम तीन कदम उठा रहे हैं. पहला, फेसबुक लाइव का उपयोग करने के नियमों को मजबूत करना, दूसरा- हमारे प्लेटफॉर्म पर नफरत को दूर करने के लिए और सख्त कदम उठाना. तीसरा कदम है न्यूजीलैंड का समर्थन करना.

कंपनी की सीईओ के मुताबिक, फेसबुक उन लोगों को रोक रहा है, जिन्होंने पहले अपने प्लेटफॉर्म पर लाइव स्ट्रीमिंग से सोशल मीडिया नेटवर्क के सामुदायिक मानकों का उल्लंघन किया है. सोशल मीडिया नेटवर्क सॉफ्टवेयर में सुधार की कोशिश भी कर रहा है ताकि हिंसक वीडियो या फोटो को जल्दी से पहचाना जा सके और उन्हें शेयर या दोबारा से पोस्ट न किया जा सके.

नफरत फैलाने वालों को फेसबुक करेगा बैन

सैंडबर्ग ने कहा, “न्यूजीलैंड हमले का असली वीडियो लाइव स्ट्रीम किया गया था, यह वीडियो इसलिए फैला क्योंकि इसे दोबारा एडिट कर के शेयर किया गया. जिससे इसे ब्लॉक करना हमारे सिस्टम के लिए काफी मुश्किल हो गया था.” उन्होंने कहा कि फेसबुक ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड में नफरत फैलाने वाले ग्रुप्स की पहचान करने और उन्हें हटाने के लिए आर्टिफिशियल इंटेलिजेंश का उपयोग कर रहा है.

सैंडबर्ग का कहना है कि ऐसे ग्रुप्स फेसबुक से बैन कर दिए जाएंगे. मालूम हो कि कुछ दिनों पहले ही फेसबुक ने घोषणा की थी कि वह नफरत फैलाने वालों पर कदम उठाने के लिए वाइट नेशनलिज्म (White Nationalism), और वाइट सेपरेटिज्म (White Separatism) की प्रशंसा या समर्थन पर भी प्रतिबंध लगाएगी. फेसबुक और इंस्टाग्राम पर अगले सप्ताह से प्रतिबंध लागू किया जाएगा.