खत्म हो गया G-20 सम्मेलन, नहीं निकला अमेरिका-चीन के ट्रेड वॉर का समाधान

ओसाका में G-20 सम्मेलन का समापन हो गया है. भले ही इस महामिलन में किसी समस्या का समाधान ना निकला हो लेकिन मेज़बान जापान ने संतोष ज़ाहिर किया कि कई मुद्दों पर सबकी सहमति बनी

ओसाका. जी-20 का दो-दिवसीय शनिवार को संपन्न हो गया. सम्मेलन के समापन के बाद जापान के प्रधानमंत्री शिंजो एबे ने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि जी-20 के नेता आर्थिक वृद्धि की जरूरत पर राजी हुए और उन्होंने वैश्वीकरण तथा विश्व व्यापार तंत्र पर चिंता व्यक्त की है.

एबे ने कहा कि 20 सदस्यीय संगठन ने मुक्त व्यापार तंत्र का समर्थन करने वाले मूलभूत सिद्धांतों के लिए अपना समर्थन दोहराया और खुले, मुक्त और भेदभाव रहित बाजारों को पाने पर विशेष बल दिया. गौरतलब है कि ट्रंप ने पिछले दिनों जिस तरह ट्रेड वॉर छेड़ा उसने तनाव पैदा कर दिया था.

g 20, खत्म हो गया G-20 सम्मेलन, नहीं निकला अमेरिका-चीन के ट्रेड वॉर का समाधान

जापान के प्रधानमंत्री ने कहा कि एक बार में इतनी ज्यादा वैश्विक चुनौतियों का एक समाधान निकालना मुश्किल होने के बावजूद कई मामलों में सहमति दिखाई दी. उन्होंने कहा कि सदस्य देश वैश्विक वृद्धि को तेजी देने पर राजी हुए और उन्होंने विश्व व्यापार संगठन में सुधार की जरूरत पर बल दिया.

सभी नेताओं ने मिलकर अंतिम बयान पर हस्ताक्षर किए जिसमें भूराजनीतिक और व्यापारिक तनावों में तेजी बताई गई है लेकिन इसमें अमेरिका, चीन और दूसरे देशों के बीच बढ़ते व्यापारिक तनाव का ज़िक्र नहीं है.

g 20, खत्म हो गया G-20 सम्मेलन, नहीं निकला अमेरिका-चीन के ट्रेड वॉर का समाधान

साल 1999 में स्थापित जी-20 आर्थिक और वित्तीय मुद्दों पर अंतर्राष्ट्रीय सहयोग के लिए केंद्रीय मंच है। इसमें 19 देश तथा यूरोपीय संघ (ईयू) हैं. इसके सदस्य देशों में अर्जेटीना, ऑस्ट्रेलिया, ब्राजील, कनाडा, चीन, फ्रांस, जर्मनी, इंडिया, इंडोनेशिया, इटली, जापान, मेक्सिको, रूस, सऊदी अरब, दक्षिण अफ्रीका, दक्षिण कोरिया, तुर्की, ब्रिटेन और अमेरिका हैं.