जनरल बाजवा और ISI चीफ ने विपक्षी दलों से की सीक्रेट मीटिंग, कहा- सरकार से विवाद में न घसीटें सेना को

बाजवा और हमीद ने लगभग 15 नेताओं के साथ 16 सितंबर को मुलाकात की थी. इनमें नेशनल असेंबली में विपक्ष के नाता शाहबाज शरीफ और पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी के चेयरमैन बिलावल भुट्टो जरदारी भी शामिल थे.

qamar javed bajwa, general qamar javed bajwa, पाकिस्‍तान आर्मी

पाकिस्तानी सेना के प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा और ISI चीफ लेफ्टिनेंट जनरल फैज हमीद ने मल्टी पार्टी मीटिंग से पहले मुख्य विपक्षी दलों से गुप्त तौर पर मुलाकात की और उनसे कहा कि प्रधानमंत्री इमरान खान से उनके राजनीतिक मतभेदों के बीच सेना का नाम न घसीटें. मंगलवार को एक मीडिया रिपोर्ट में इस बात का खुलासा हुआ है.

द डॉन में छपी रिपोर्ट के मुताबिक बाजवा और हमीद ने लगभग 15 नेताओं के साथ 16 सितंबर को मुलाकात की थी. इनमें नेशनल असेंबली में विपक्ष के नाता शाहबाज शरीफ और पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी के चेयरमैन बिलावल भुट्टो जरदारी भी शामिल थे. रिपोर्ट के मुताबिक इस मुलाकात को गुप्त रखा गया था.

रेल मंत्री शेख राशिद ने बैठक और इसमें शामिल होने वाले नेताओं की पुष्टि करते हुए कहा कि यह गिलगित-बाल्टिस्तान की संवैधानिक स्थिति में होने वाले परिवर्तनों पर चर्चा करने के लिए इस बैठक को आयोजित किया गया था. जिसका भारत लगातार विरोध करता रहा है.

हालांकि विपक्षी दलों ने इस मौके का फायदा उठाकर अन्य मुद्दों का जिक्र किया. खासकर राजनीति में सैन्य दखल और जवाबदेही के बहाने नेताओं के उत्पीड़न का मुद्दा. रिपोर्ट के मुताबिक राशिद भी उन मंत्रियों में से एक थे, जो इस बैठक में शामिल हुए थे.

हालांकि राजनीतिक विशेषज्ञ इस बैठक की टाइमिंग के कारण इसे रविवार को हुई विपक्षी दलों की मल्टी पार्टी कॉन्फ्रेंस से जोड़ रहे हैं, जिसमें पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने पाकिस्तानी सेना की कड़ी आलोचना करते हुए कहा था कि सेना का देश की सियासत में गहरा दखल है. शरीफ की तरह ही अन्य विपक्षी दलों का विरोध भी काफी गंभीर है. शरीफ फिलहाल लंदन में अपना इलाज करवा रहे हैं.

Related Posts