पाखंडी इमरान: कश्मीर को लेकर भारत पर हमला और मुस्लिम कुर्दों पर तुर्की हमले का समर्थन

पाकिस्तान एक तरफ मुसलमानों पर हो रहे कथित हमलों को लेकर भारत पर हमलावर रहता है, तो वहीं दूसरी तरफ तुर्की द्वारा सीरिया स्थित कुर्द मुसलमानों पर किए हमले का समर्थन भी करता है.  

एक बार फिर पाकिस्तान और उसके प्रधानमंत्री इमरान खान का पाखंड सामने आ गया है और उनका चेहरा बेनकाब हो गया है. दरअसल पाकिस्तान एक तरफ मुसलमानों पर हो रहे कथित हमलों को लेकर भारत पर हमलावर रहता है, तो वहीं दूसरी तरफ तुर्की द्वारा सीरिया स्थित कुर्द मुसलमानों पर किए हमले का समर्थन भी करता है.

पाकिस्तान ने शनिवार को पूर्वोत्तर सीरिया पर तुर्की के आक्रमण का समर्थन करते हुए कहा कि वह पूरी एकजुटता के साथ तुर्की के पूर्ण समर्थन में खड़ा है. पाकिस्तान सरकार ने शुक्रवार को एक ट्वीट में कहा कि प्रधानमंत्री इमरान खान ने तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तैयप एर्दोगन को हाल के घटनाक्रमों के संबंध में फोन किया था और “हमेशा की तरह” उन्होंने तुर्की को अपना समर्थन दिया है.

मालूम हो कि तुर्की सैनिकों के उत्तरी सीरिया में कुर्द बलों पर सैन्य हमला करने के बाद बुधवार को दुनियाभर में इसकी कड़ी निंदा की जा रही है. कई देश और वैश्विक संगठन तुर्की के इस कदम का ठोस जवाब देने पर विचार कर रहे हैं, जिसमें तुर्की पर प्रतिबंधों की संभावनाएं भी शामिल हैं जब तक कि वह अपनी सेना को वापस नहीं ले लेते.

भारत ने किया था तुर्की का विरोध

भारत ने भी गुरुवार को तुर्की के इस कदम पर खेद जताया है. विदेश मंत्रालय ने एक बयान जारी कर कहा कि ‘उत्तर-पूर्व सीरिया में तुर्की द्वारा एकतरफा सैन्य हमले पर हम गहरा खेद व्यक्त करते हैं. तुर्की की कार्रवाई उस क्षेत्र में स्थिरता और आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई को कमजोर कर सकती है. इसकी कार्रवाई में मानवीय और नागरिक संकट पैदा करने की क्षमता भी है.’

इसी के साथ भारत ने तुर्की से सीरिया की संप्रभुता का सम्मान करने का भी आग्रह किया है. विदेश मंत्रालय ने कहा, ‘हम तुर्की से संयम बरतने और सीरिया की संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता का सम्मान करने का आग्रह करते हैं. हम बातचीत और चर्चा के माध्यम से सभी मुद्दों के शांतिपूर्ण समाधान का भी आग्रह करते हैं.’

ये भी पढ़ें: विदेश मंत्री के बाद अब पाकिस्‍तानी पीएम इमरान खान ने भी माना कश्‍मीर भारत का हिस्‍सा