किसका प्‍लेन उधार लेकर अमेरिका पहुंचे इमरान खान, पढ़ें पूरी कहानी

पाकिस्‍तान का पीएम होने की हैसियत से इमरान खान विशेष विमान जा सकते थे, लेकिन वह सरकारी खर्च पर काबू करने के लिए कई कदम उठा रहे हैं.

न्‍यूयॉर्क: पाकिस्‍तान के प्रधानमंत्री इमरान खान उधार का प्‍लेन लेकर अमेरिका पहुंचे. हुआ यूं कि इमरान खान अमेरिका जाने से पहले दो दिन के दौरे पर सऊदी अरब गए थे. कार्यक्रम के अनुसार, इमरान खान को सऊदी अरब की यात्रा समाप्‍त करने के बाद कर्मशियल फ्लाइट से अमेरिका जाना था.

सऊदी क्राउन प्रिंस मोहम्‍मद बिन सलमान को जब पता चला कि इमरान खान अमेरिका दौरे पर कमर्शियल फ्लाइट से जाने वाले हैं तो उन्‍होंने पाकिस्‍तान प्रधानमंत्री को अपना प्राइवेट जेट जीएलएफ-6 दे दिया.

सऊदी अरब की यात्रा के दौरान इमरान खान पत्‍नी बुशरा के साथ मक्‍का भी गए थे. उन्‍हें भी सऊदी क्राउन प्रिंस ने कमर्शियल फ्लाइट से नहीं जाने दिया और प्राइवेट जेट से पाकिस्‍तान भेजा.

इमरान खान इसी विमान से अमेरिका पहुंचे. पाकिस्‍तान के प्रधानमंत्री यूनाइटेड जनरल असेंबली के 74वें सेशन में हिस्‍सा लेने अमेरिका गए हैं. पीएम नरेंद्र मोदी भी यूएन महासभा में हिस्‍सा लेने के लिए इन दिनों अमेरिका दौरे पर हैं.

सऊदी क्राउन प्रिंस के प्राइवेट जेट से इमरान खान के अमेरिका जाने को लेकर अलग-अलग प्रतिक्रिया दे रहे हैं. कुछ लोग इसे सरकारी खर्च कम करने की दिशा में बेहद अच्‍छा कदम मान रहे हैं तो कई लोग इसे पाकिस्‍तान की खस्‍ताहात अर्थव्‍यवस्‍था का उदाहरण बता रहे हैं.

जहां तक इमरान खान का सवाल है तो उनके पास अपना विशेष विमान है, लेकिन वह सरकारी खर्च पर काबू करने के लिए कई कदम उठा रहे हैं. पैसा बचाने के लिए ही वह कमर्शियल फ्लाइट से सऊदी अरब गए. आर्थिक संकट से जूझ रहे पाकिस्‍तान को पटरी पर लाने के लिए इमरान खान ने सरकारी बैठकों में चाय-बिस्किट तक पर रोक लगा दी है.

इमरान खान ने अफसरों के लिए एक ज्‍यादा अखबार न खरीदने का भी फैसला किया है. साथ ही नई गाड़ी या कोई भी लग्‍जरी वाला सामान भी नहीं खरीदा जाएगा.

जम्‍मू-कश्‍मीर से आर्टिकल 370 हटाए जाने के फैसले के बाद से भारत और पाकिस्‍तान के बीच रिश्‍ते बेहद तल्‍ख हो चले हैं. इमरान खान लगातार दावा कर रहे हैं कि वह कश्‍मीर मसले को इंटरनेशनल मीडिया के सामने उठाते रहेंगे. यूएन महासभा में भी कश्‍मीर मसले को एग्रेसिव तरीके से उठाने की बात कह चुके हैं, लेकिन उधर के प्राइवेट जेट में पहुंचकर उन्‍होंने न केवल पाकिस्‍तानियों बल्कि पूरी दुनिया को खुद ही बता दिया है कि बार-बार भारत को युद्ध और परमाणु युद्ध की धमकी देने वाला पाकिस्‍तान दरअसल अंदर से बहुत खोखला हो चुका है.