क्‍यों शी जिन‍पिंग की तरह तानाशाह बनना चाहते हैं इमरान खान?

इमरान ने कहा, "मेरी भी इच्छा होती है कि काश मैं भी राष्ट्रपति शी के नक्शेकदम पर चल सकूं और पाकिस्तान में 500 भ्रष्टाचारियों को जेल के अंदर डाल सकूं."
Imran Khan Xi Jinping, क्‍यों शी जिन‍पिंग की तरह तानाशाह बनना चाहते हैं इमरान खान?

इमरान खान चीन के राष्‍ट्रपति शी जिनपिंग का तानाशाही रवैया अपनाना चाहते हैं. चीन के दौरे पर गए इमरान ने इच्‍छा तो कुछ ऐसी ही जताई है. इमरान ने कहा कि उनकी इच्छा होती है कि वह शी जिनपिंग को फॉलो कर सकें और पाकिस्तान में 500 भ्रष्ट व्यक्तियों को जेल भेज सकें.

डॉन की रिपोर्ट के अनुसार, बीजिंग में अंतर्राष्ट्रीय व्यापार के प्रोत्साहन के लिए चीनी परिषद को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि एक चीज जो उन्होंने चीन से सीखी है वह यह कि कैसे भ्रष्टाचार पर नकेल कसी जा सकती है.

उन्होंने कहा, “राष्ट्रपति शी जिनपिंग की सबसे बड़ी लड़ाई भ्रष्टाचार के खिलाफ है. मैंने सुना है कि 400 मंत्री स्तर के लोगों को भ्रष्टाचार के मामले में दोषी ठहराया गया है और चीन में बीते पांच वर्षो में उन्हें जेल भेजा गया है.” इमरान ने कहा, “मेरी भी इच्छा होती है कि काश मैं भी राष्ट्रपति शी के नक्शेकदम पर चल सकूं और पाकिस्तान में 500 भ्रष्टाचारियों को जेल के अंदर डाल सकूं.”

इमरान खान का यह बयान दिखाता है कि वह पाकिस्‍तान के पावर सेटअप में कितने कमजोर हैं. वह एक्‍शन लेना चाहते हैं पर उनके पास पावर नहीं. अब वह चीन के जैसा तानाशाही रवैया अख्तियार कर अपना काम निकलवाना चाहते हैं.

इमरान ने चीन में कहा कि पाकिस्तान में प्रक्रियाएं काफी जटिल होती हैं और देश में निवेश के लिए सबसे बड़ी बाधाओं में से से एक भ्रष्टाचार है. इस भाषण के बाद इमरान बीजिंग के ग्रेट हाल आफ पीपुल पहुंचे जहां चीन के प्रधानमंत्री ली केकियांग ने उनका स्वागत किया. खान मंगलवार सुबह बीजिंग पहुंचे. अगस्त 2018 में प्रधानमंत्री का पद संभालने के बाद यह बीजिंग का उनका तीसरा दौरा है.

ये भी पढ़ें

आर्थिक कंगाली के कगार पर खड़ा पाकिस्तान, इमरान सरकार ने कर्ज लेने का बनाया रिकार्ड

बाजवा को लेकर चीन क्‍यों गए इमरान खान, भारत के खिलाफ अब कौन सी चाल चलेगा ड्रैगन?

Related Posts