तानाशाहों की तरह काम करते हैं शी जिनपिंग, टोक्यो में भारत और अन्य देशों के एक्टिविस्ट्स का प्रोटेस्ट

इस विरोध के जरिए मांग की गई कि शी जिनपिंग (XI Jinping) को राष्ट्रपति पद से हटाया जाए. शी जिनपिंग की एक तानाशाही शैली के लिए दुनिया भर में आलोचना हो रही है.
xi jinping dictatorial style of working, तानाशाहों की तरह काम करते हैं शी जिनपिंग, टोक्यो में भारत और अन्य देशों के एक्टिविस्ट्स का प्रोटेस्ट

जापान (Japan) के टोक्यो (Tokyo) में शिबुया स्टेशन (Shibuya Station) के पास मशहूर हचिको प्रतिमा (Hachiko Statue) पर जापानी, भारतीय, ताइवान, तिब्बती और अन्य देशों और क्षेत्रों के कई ह्यूमन राइट्स एक्टिविस्ट्स (Human Rights Activists) इकट्ठा हुए. ये सभी यहां चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग (Xi Jinping) की तानाशाही कार्यशैली का विरोध जताने के लिए इकट्ठा हुए थे.

दुनिया भर में हो रही शी जिनपिंग की आलोचना

शी जिनपिंग की एक तानाशाही शैली के लिए दुनिया भर में आलोचना हो रही है. जापान में हुए विरोध के जरिए मांग की गई कि शी जिनपिंग को राष्ट्रपति पद से हटाया जाए और उनकी जगह किसी जिम्मेदार नेता जो लोकतांत्रिक रूप से चीनी लोगों द्वारा चुना जाएगा उसे राष्ट्रपति बनाना चाहिए.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

पिछले कुछ सालों से चीन ने केवल भारत के खिलाफ ही अपनी उग्रता नहीं दिखाई है, बल्कि कई पड़ोसी देशों पर चीन ने अतिक्रमण करने की कोशिश की है. इन पड़ोसी देशों में भारत के अलावा, भूटान, जापान, फिलीपिंस, वियतनाम जैसे देश हैं. चीन की आक्रमकता को लेकर एशियान देश काफी चिंतित और नाराज हैं.

चीनी राष्ट्रपति की लोकतांत्रिक आवाज को दबाने की कोशिश

बताते चलें कि चीनी नागरिकों को लोकतंत्र से वंचित रखने के दौरान, शी जिनपिंग हांगकांग में लोकतंत्र समर्थक युवा कार्यकर्ताओं की वास्तविक आवाजों को दबाने के लिए हर संभव कोशिश कर रहे हैं. ये वो समर्थक हैं जो कि लोकतंत्र को लेकर एक साल से अधिक समय से विरोध कर रहे हैं.

भारत और चीन के बीच लाइन ऑफ एक्चुअलर पर काफी तनाव बढ़ गया है. यह तनाव 15 जून के बाद से ज्यादा बढ़ा है जब दोनों देशों के सैनिकों के बीच हुई हिंसक झड़प में भारत के 20 जवान शहीद हो गए. अब भारत और चीन पूर्वी लद्दाख इलाके में तनाव कम करने के लिए हर सप्ताह WMCC (Working Mechanism for Consultation and Coordination) की बैठक करेंगे.

सरकार से जुड़े एक सूत्र ने बताया है कि इस बात पर सहमति बन गई है कि पूर्वी लद्दाख में तनाव कम करने के लिए हर सप्ताह WMCC की मीटिंग होगी. इस दौरान भारतीय पक्ष में सुरक्षाबलों के अधिकारियों समेत कई मंत्रालयों के प्रधिनिधि शामिल होंगे, जैसे विदेश मंत्रालय, गृह मंत्रालय, रक्षा मंत्रालय.

देखिये परवाह देश की सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 10 बजे

Related Posts