भारत ने चीन को दी करारी मात, 4 साल के लिए यूएन की इस प्रतिष्ठित संस्था का बना सदस्य

भारत 2021 से 2025 तक  चार वर्षों तक UNCSW का सदस्य रहेगा. महिलाओं की स्थिति को लेकर बनाया गया आयोग (CSW या UNCSW) मुख्य संयुक्त राष्ट्र अंगों में से एक ECOSOC का एक कार्यात्मक आयोग है.
India beats China, भारत ने चीन को दी करारी मात, 4 साल के लिए यूएन की इस प्रतिष्ठित संस्था का बना सदस्य

भारत ने यूएन (United Nations) के निकाय में सुरक्षित सीट पर कब्जा जमाया है, वहीं दूसरी ओर चीन (China) इस निकाय में सुरक्षित सीट पाने में नाकाम रहा है. संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि टीएस त्रिमूर्ति ने कहा कि भारत को इकोनॉमिक एन्ड सोशल काउन्सिल (ECOSOC) की संस्था यूनाइटेड नेशन कमीशन ऑन स्टेट्स ऑफ वूमेन (UNCSW) का सदस्य चुना गया है.

राजदूत टीएस त्रिमूर्ति ने ट्वीट किया, “भारत ने प्रतिष्ठित ECOSOC निकाय में सीट जीती. भारत को महिलाओं की स्थिति पर आयोग (सीएसडब्ल्यू) का सदस्य चुना गया है. यह हमारे सभी प्रयासों में लैंगिक समानता और महिला सशक्तीकरण को बढ़ावा देने के लिए हमारी प्रतिबद्धता का एक महत्वपूर्ण समर्थन है. हम सदस्य राज्यों को उनके समर्थन के लिए धन्यवाद देते हैं.

4 सालों तक भारत रहेगा सदस्य

भारत 2021 से 2025 तक  चार वर्षों तक UNCSW का सदस्य रहेगा. महिलाओं की स्थिति को लेकर बनाया गया आयोग (CSW या UNCSW) मुख्य संयुक्त राष्ट्र अंगों में से एक ECOSOC का एक कार्यात्मक आयोग है. UNCSW को लैंगिक समानता और महिलाओं के सशक्तीकरण को बढ़ावा देने वाले संयुक्त राष्ट्र अंग के रूप में माना जाता है.

भारत, चीन और अफगानिस्तान ने यूएनसीएसडब्ल्यू (UNCSW) पर आयोग के लिए चुनाव लड़ा था. जहां भारत और अफगानिस्तान ने 54 सदस्यों के बीच मतपत्र जीता वहीं चीन आधा समर्थन भी हासिल नहीं कर सका. यह साल बीजिंग वर्ल्ड कॉन्फ्रेंस ऑन वीमेन (1995) की 25 वीं वर्षगांठ है. इससे पहले 18 जून, 2020 को भारत को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) में गैर-स्थायी सदस्यों में चुना गया.

भारत को इसमें 192 में से 184 मतों का भारी बहुमत मिला था, इसले लिए न्यूनतम 128 मतों के समर्थन की आवश्यकता थी. यह आठवीं बार था जब भारत यूएनएससी के लिए चुना गया था. भारत ने इससे पहले सात बार इस जिम्मेदारी को निभाया है. भारत एशिया-प्रशांत समूह (APG) में इकलौता उम्मीदवार था. क़रीब एक दशक के बाद परिषद में भारत की 2021 से वापसी होगी. यूएनएससी (UNSC) में भारत ने आखिरी बार 2011 और 2012 में सेवा दी थी.

Related Posts