गंभीर मोड़ पर दो परमाणु शक्ति देश, भारत-पाकिस्तान सुलझा लें मामला: डोनाल्ड ट्रंप

ट्रंप ने संयुक्त राष्ट्र महासभा से अलग पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के साथ सोमवार को द्विपक्षीय बातचीत की थी

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने एक बार फिर से कहा कि वो कश्मीर मसले को लेकर भारत पाकिस्तान के बीच मध्यस्थता की इच्छा रखते हैं. उन्होंने कहा कि दोनों परमाणु देश हैं और फ़िलहाल ‘गंभीर मतभेद’ से गुज़र रहे हैं. मैनें उनसे आग्रह किया है कि इस मामले को बस सुलझा लें और खत्म करें.

ट्रंप ने संयुक्त राष्ट्र महासभा को संबोधित करने के बाद एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि मजबूत संबंध बनाने और निष्पक्ष द्विपक्षीय व्यापार पर पाकिस्तान और भारत के नेताओं के साथ तथा कई अन्य देशों के नेताओं के साथ उनकी बहुत फलदायी बातचीत हुई है.

ट्रंप ने कहा, “पाकिस्तान और भारत के संबंध में हमने कश्मीर के बारे में बात की और मैं जो भी मदद कर सकता हूं, उसकी मैंने पेशकश की, और वह मदद मध्यस्थता है. मैं जो कर सकता हूं वह करूंगा, क्योंकि वे बहुत गंभीर मोड़ पर हैं, और आशा है वे बेहतर स्थिति में हो जाएंगे.”

उन्होंने कहा, “यदि आप दोनों सज्जनों की तरफ देखें, तो वे दोनों मेरे बहुत अच्छे मित्र हैं. मैंने मित्रों से कहा कि इसे बस सुलझा लें, क्योंकि वे दो परमाणु शक्तियां हैं.”

वहीं विदेश मंत्रालय प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा है कि मध्यस्थता को लेकर भारत पहले ही अपनी स्थिति साफ कर चुका है. रवीश कुमार ने कहा, ‘कल भी उन्होंने कहा था कि भारत और पाकिस्तान दोनों को किसी भी तरह की मध्यस्थता के लिए सहमत होना चाहिए. हमारी स्थिति बहुत स्पष्ट है, यह पहले ही प्रधानमंत्री की ओर से बताई जा चुकी है. यह स्थिति अब भी बनी हुई है.’

ट्रंप ने संयुक्त राष्ट्र महासभा से अलग पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के साथ सोमवार को द्विपक्षीय बातचीत की थी और भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ मंगलवार को बातचीत की थी.

उन्होंने मोदी के साथ ह्यूस्टन में रविवार को हाउदी मोदी समारोह में भी मंच साझा किया था.