सियासी फायदे के लिए महिला अधिकार को लेकर भारत को घेर रहा पाकिस्तान, मिला करारा जवाब

संयुक्त राष्ट्र महासभा के 'एडवांसमेंट ऑफ वुमन' विषय पर आयोजित सत्र में पालौमी त्रिपाठी ने कहा कि महासभा की पहली महिला अध्यक्ष विजय लक्ष्मी पंडित से लेकर भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) की महिला वैज्ञानिकों तक भारतीय महिलाएं कई लोगों की प्रेरणा का स्त्रोत बनी हैं.
महिला, सियासी फायदे के लिए महिला अधिकार को लेकर भारत को घेर रहा पाकिस्तान, मिला करारा जवाब

अपने सियासी फायदे के लिए पाकिस्तान दुनियाभर में कश्मीर राग अलाप रहा है. इसी कड़ी में पाकिस्तान ने महिला अधिकार को लेकर भी भारत पर हमला किया था, जिसका करारा जवाब उसे भारत की तरफ से मिला है. भारत की ओर से संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी मिशन में प्रथम सचिव पालौमी त्रिपाठी ने कहा कि यह बड़ी विडंबना है कि जिस देश में महिला के जीवन जीने के अधिकार तक का उल्लंघन होता है, वह भारत के खिलाफ महिला अधिकार के मुद्दे का इस्तेमाल कर रहा है.

संयुक्त राष्ट्र महासभा के ‘एडवांसमेंट ऑफ वुमन’ विषय पर आयोजित सत्र में पालौमी त्रिपाठी ने कहा कि महासभा की पहली महिला अध्यक्ष विजय लक्ष्मी पंडित से लेकर भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) की महिला वैज्ञानिकों तक भारतीय महिलाएं कई लोगों की प्रेरणा का स्त्रोत बनी हैं. पालौमी त्रिपाठी ने संयुक्त राष्ट्र में पाकिस्तानी निवर्तमान राजनयिक मलीहा लोथी को जवाब देते हुए बिना पाकिस्तान का नाम लिए ये बातें कहीं.

मलीहा लोधी ने संयुक्त राष्ट्र महासभा कि इस समिति के समक्ष कहा था कि जम्मू कश्मीर में संचार बंद होने के चलते वहां कि महिलाओं को काफी तकलीफों का सामना करना पड़ रहा है. लोधी ने अपने इस तर्क के लिए न्यूयॉर्क टाइम्स में छपी एक रिपोर्ट का हवाला दिया था.

इन आरोपों के जवाब में त्रिपाठी ने कहा कि दूसरों की जमीन पर नजर रखने वाला देश झूठी चिंताओं की आड़ में अपने नापाक इरादों को छिपा रहा है. पाकिस्तान का नाम लिए बिना त्रिपाठी ने कहा कि उस देश के सैन्य बलों द्वारा 1971 में भारत के पड़ोसी के यहां महिलाओं के खिलाफ भयावह यौन हिंसा को अंजाम दिया गया था, अंतरराष्ट्रीय समुदाय ये भूला नहीं है.

ये भी पढ़ें: जिनपिंग के तोहफे पर PAK में मचा बवाल, इमरान सरकार के खिलाफ प्रस्ताव पास

Related Posts