• Home  »  दुनिया   »   कोरोना काल ने छीना रोजगार, सऊदी अरब में 450 भारतीय भीख मांगने को मजबूर, डिटेंशन सेंटर में डाले गए

कोरोना काल ने छीना रोजगार, सऊदी अरब में 450 भारतीय भीख मांगने को मजबूर, डिटेंशन सेंटर में डाले गए

एक श्रमिक ने कहा, “हमने कोई जुर्म (Crime) नहीं किया है. हम अपने हालात के चलते भीख मांगने को मजबूर थे, क्योंकि हमारी नौकरी (Job) चली गई है. अब हम सभी डिटेंशन सेंटर (Detention Centre) में सड़ रहे हैं.”

  • TV9 Hindi
  • Publish Date - 9:30 am, Sat, 19 September 20

कोरोनावायरस महामारी (Coronavirus Pandemic) के दौर में सऊदी अरब (Saudi Arabia) में 450 बेरोजगार (Jobless) भारतीय (Indian) सड़क पर आकर भीख मांगने को मजबूर हो गए. इनमें से ज्यादातर श्रमिकों के वर्क परमिट्स (Work Permits) समाप्त हो चुके हैं और वो भीख मांगने के लिए मजबूर हैं. इनमें से अधिकतर तेलंगाना, आंध्र प्रदेश, उत्तर प्रदेश, कश्मीर, बिहार, दिल्ली, राजस्थान, कर्नाटक, हरियाणा, पंजाब और महाराष्ट्र के रहने वाले हैं.

इन श्रमिकों का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. वीडियो में ये कहते हैं कि ‘हमारी केवल यह गलती थी कि हम भीख मांग रहे थे. इसके बाद सऊदी के अधिकारी हमारे किराए के कमरों में गए और हमारी पहचान करके हमें जेद्दा के शुमासी डिटेंशन सेंटर में डाल दिया.’

किस राज्य के कितने श्रमिक फंसे

डिटेंशन सेंटर में डाले गए श्रमिकों में उत्तर प्रदेश के 39, बिहार के 10, तेलंगाना के पांच, महाराष्ट्र, जम्मू-कश्मीर और कर्नाटक के चार-चार और आंध्र प्रदेश का एक शख्स है.

ज्यादातर श्रमिक रो रहे हैं और कह रहे हैं कि उन्हें एक असहाय स्थिति में पकड़ा गया. एक श्रमिक ने कहा, “हमने कोई जुर्म नहीं किया है. हम अपने हालात के चलते भीख मांगने को मजबूर थे, क्योंकि हमारी नौकरी चली गई है. अब हम सभी डिटेंशन सेंटर में सड़ रहे हैं.”

सामाजिक कार्यकर्ता ने की भारत सरकार से अपील

सामाजिक कार्यकर्ता और एमबीटी नेता अमजद उल्लाह खान ने बताया, “जब लोकल अथॉरिटी को पता चला कि इन मजदूरों का वर्क परमिट खत्म हो चुका है तो उन्हें डिटेंशन सेंटर में शिफ्ट कर दिया गया. जिनके पास वर्क परमिट नहीं है उन्हें डिटेंशन सेंटर ले जाया गया.”

अमजद ने प्रधानमंत्री नरेंद मोदी, विदेशमंत्री एस जयशंकर, नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी और सऊदी अरब में भारतीय दूत औसफ सईद को पत्र लिखकर इन 450 मजदूरों की अपील की ओर ध्यान दिलाया है. साथ ही उन्होंने केंद्र से इन मजदूरों की मदद की गुहार लगाई है.