फुटबॉल मैच देखने के लिए ‘ब्लू गर्ल’ बनी लड़का, जेल से बचने के लिए खुद को जला डाला

ईरान में महिलाओं के स्टेडियम में घुसने पर पाबंदी है. अगर कोई महिला स्टेडियम में घुसती है तो उसे छह महीने की जेल की सजा मिलती है.

फुटबॉल मैच ब्लू गर्ल, फुटबॉल मैच देखने के लिए ‘ब्लू गर्ल’ बनी लड़का, जेल से बचने के लिए खुद को जला डाला

तेहरान: ईरान में वर्षों से महिलाओं के लिए स्टेडियम में जाकर फुटबॉल मैच देखने पर बैन है. एक 29 साल की महिला वेश बदलकर अपनी टीम को चीयर करने स्टेडियम पहुंची लेकिन पुलिस ने उसे पहचान लिया और हिरासत में ले लिया. महिला ने पुलिस से डर खुद को आग ली. जब तक लड़की की आग को बुझाया गया तब तक उसका शरीर 90 प्रतिशत जल चुका था. अस्पताल में ईलाज के दौरान लड़की की मौत हो गई.

ईरान में महिलाओं के स्टेडियम में घुसने पर पाबंदी है. अगर कोई महिला स्टेडियम में घुसती है तो उसे छह महीने की जेल की सजा मिलती है. ईरान की न्यायपालिका को एक महिला फुटबॉल प्रशंसक की मौत की जांच करने के लिए कहा गया है. वहां कि मीडिया ने कहा है कि महिला ने खुद को इसलिए आग लिया, क्योंकि वह छह महीने की जेल की सजा काटने से से डर गई थी.

मृतक ईरानी महिला का नाम साहर खोदायरी था. जो 29 साल की थीं. उनकी मौत के बाद ईरान में उनका नाम ट्विटर पर खासा ट्रेंड हुआ था. खोदायरी के परिजनों ने उनकी मौत के बाद बताया कि वो मानसिक तौर पर बीमार थीं और उन्होंने पिछले एक साल से दवाइयां लेनी भी बंद कर दी थी. खोदायरी को पिछले साल गिरफ्तार किया गया था, जब वह अपनी पसंदीदा टीम एस्टेगल एफसी का कै मैच देखने के लिए एक स्टेडियम में जाने की कोशिश की थी.

ऑनलाइन मीडिया के अनुसार खोदायरी को कोई भी सजा नहीं सुनाई गई थी. कोई भी कार्रवाई नहीं हुई थी, क्योंकि न्यायाधीश छुट्टी पर थे. खोडायरी की मौत से हंगामा मच गया है. सोशल मीडिया पर लोग फीफा से ईरान को अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं से प्रतिबंधित करने और प्रशंसकों को मैचों का बहिष्कार करने के लिए कह रहे हैं.

Related Posts