क्या कश्मीर मुद्दे को लेकर अमेरिकी संसद में साजिश रच रहा है पाकिस्तान?

भारतीय आलोचकों के मुताबिक यह हियरिंग एक सेट अप था, जिसका आउटकम भी पूर्व निर्धारित था. कई आलोचकों का मानना था कि यह अफगानिस्तान में पाकिस्तान की मदद पाने के लिए अमेरिकी प्रयास का भी हिस्सा था.
पाकिस्तान, क्या कश्मीर मुद्दे को लेकर अमेरिकी संसद में साजिश रच रहा है पाकिस्तान?

अमेरिकी संसद में मंगलवार को कमेटी ऑन फॉरेन अफेयर्स की बैठक में ‘साउथ एशिया में मानवाधिकार’ पर चर्चा हुई. यह कांग्रेसनल हियरिंग साउथ एशिया में मानवाधिकारों पर ध्यान केंद्रित करने के लिए थी. हालांकि पहले पैनल के दौरान ज्यादातर सांसदों के सवालों का ध्यान विशेष रूप से कश्मीर की स्थितियों पर केंद्रित था.

पहले पैनल ने 5 अगस्त के बाद के 2 उल्लेखनीय ट्रेंड्स को हाइलाइट किया. जिसमें पहला है कि कांग्रेस के सदस्य भारत की उस तरीके से आलोचना कर रहे हैं, जैसे पिछले काफी समय से नहीं देखी गई. दूसरे ट्रेंड में आलोचना मुख्य रूप से कश्मीर में मानवाधिकार की स्थितियों के आसपास ही रही, न कि आर्टिकल 370 को हटाए जाने और कश्मीर के स्टेटस पर.

इस हियरिंग में यह भी हाइलाइट किया गया है कि भारत की आलोचना अमेरिकी निर्वाचित अधिकारियों ने प्रशासन की तुलना में काफी ज्यादा की.हालांकि इस हियरिंग की भारतीय आलोचकों ने जमकर आलोचना की. उनका मानना था कि यह हियरिंग पूरी तरह से असंतुलित और अनुचित थी.

अफगानिस्तान में पाकिस्तान की मदद पाने का अमेरिकी जरिया थी हियरिंग?

भारतीय आलोचकों के मुताबिक यह एक सेट अप था, जिसका आउटकम भी पूर्व निर्धारित था. कई आलोचकों का मानना था कि यह अफगानिस्तान में पाकिस्तान की मदद पाने के लिए अमेरिकी प्रयास का भी हिस्सा था.

इस पर कॉलमनिस्ट माइकल कुगलमैन ने भारत की आलोचना का समर्थन किया है. उनका कहना है कि “साउथ एशिया में मानवाधिकार शीर्षक भ्रामक था, क्योंकि ज्यादातर ध्यान कश्मीर पर दिया गया. इसके अलावा, अगर सभी पैनलिस्ट को बोलने और प्रतिक्रिया देने का समान अवसर नहीं दिया गया, तो यह भी सही नहीं है.”

हालांकि वह हियरिंग को षड्यंत्र बताए जाने से सहमत नहीं दिखे. उन्होंने कहा कि इस हियरिंग को अमेरिकी नीति के रूप में नहीं देखा जाना चाहिए. कांग्रेस के विचार पर अमेरिकी नीति निर्भर नहीं करती है. उनका कहना था कि भारत और अमेरिका के संबंध मजबूत बने हुए हैं.

ये भी पढ़ें: पुराना ब्‍लेजर पहनकर BCCI अध्‍यक्ष पद ग्रहण करने क्‍यों पहुंचे सौरव गांगुली, जानें

Related Posts