कार का पीछा, घर पर ISI का पहरा, इस्‍लामाबाद में भारतीय डिप्‍लोमैट के खिलाफ नाPAK साजिश

इस्लामाबाद (Islamabad) में भारतीय डिप्लोमैट गौरव अहलूवालिया (Gaurav Ahluwalia) जब कार से जा रहे थे तो पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई (ISI) के लोगों ने बाइक के जरिए उनका काफी देर तक पीछा किया.
indian diplomat gaurav ahluwalia, कार का पीछा, घर पर ISI का पहरा, इस्‍लामाबाद में भारतीय डिप्‍लोमैट के खिलाफ नाPAK साजिश

पाकिस्तान (Pakistan) से चौंकाने वाली खबर सामने आई है. इस्लामाबाद (Islamabad) में भारतीय डिप्लोमैट को परेशान करने और डराने के लिए आईएसआई ने उनके आवास के बाहर कारों और बाइक में कई लोगों को तैनात किया है.

गुरुवार को इस्लामाबाद में भारतीय डिप्लोमैट गौरव अहलूवालिया (Gaurav Ahluwalia) जब कार से जा रहे थे तो पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई (ISI) के लोगों ने बाइक के जरिए उनका काफी देर तक पीछा किया. ये लगातार उनके वाहन का तब तक पीछा करते रहे जब तक वह अपने आवास पर नहीं पहुंच गए.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

भारत ने जताया कड़ा विरोध

भारत ने इस पर कड़ा विरोध दर्ज कराया है और पाकिस्तान से जांच की मांग की है. सूत्रों के मुताबिक, पाकिस्तान के सामने भारतीय राजनयिक को परेशान करने और उनकी सामान्य ड्यूटी में बाधा उत्पन्न करने की शिकायत दर्ज कराई गई है.

पिछले कुछ समय से पाकिस्तान में लगातार भारतीय उच्चायोग के सदस्यों को परेशान करने की कोशिश की जा रही है. भारतीय उच्चायोग ने पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय को पत्र लिखकर इसकी जांच कराने की मांग की है.

इससे पहले भी कई बार आईएसआई ने लोगों के जरिए बाइक और कार से अहलूवालिया का पीछा करवाया है. इस्लामाबाद में स्थित भारतीय मिशन इसको लेकर चिंता भी जता चुका है.

भारत की कार्रवाई से बौखलाया पाकिस्तान

गौरतलब है कि भारत स्थित पाकिस्तान हाई कमीशन के दो वीजा ऑपरेटिव्स को ISI के लिए जासूसी करते हुए पकड़ा था. उन्हें 1 जून को पाकिस्तान भेज दिया था. उन्हें अटारी बॉर्डर के जरिए वापस पाकिस्तान भेजा गया था.

मालूम हो कि दोनों पाकिस्तानी ISI एजेंट्स मोहम्मद ताहिर और आबिद हुसैन नई दिल्ली स्थित पाकिस्तान हाई कमीशन में तैनात थे. जिन्हें 31 मई यानी रविवार को भारतीय अधिकारियों ने रंगे हाथों पकड़ लिया था.

ये दोनों भारतीय सेना और रेलवे मूवमेंट के लिए संबंधित लोगों को घूस देकर जानकारी इकट्ठा कर रहे थे. इसके बाद पूछताछ और छानबीन में उनके पास से भारतीय सेना से जुड़े कई जरूरी दस्तावेज बरामद किए गए.

Related Posts