ऐतिहासिक समझौते पर इजरायल, यूएई और बहरीन ने किए हस्ताक्षर, व्हाइट हाउस में ट्रंप बने गवाह

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने कहा कि यह समझौता शांति की दिशा में एक नए युग की शुरुआत करेगा. माना जा रहा है कि इन समझौतों से ट्रंप, ईरान पर दबाव बना सकेंगे. चुनावी माहौल में ट्रंप प्रचार कर सकेंगे कि वह दुनिया के बेहतरीन मध्यस्थ हैं.

यूएई और बहरीन ने इजरायल के साथ किए ऐतिहासिक समझौते पर हस्ताक्षर कर दिए हैं. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने व्हाइट हाउस में इस कार्यक्रम की मेजबानी की. इस दौरान इजरायल के पीएम बेंजामिन नेतन्याहू, यूएई के विदेश मंत्री अब्दुल्ला बिन जायद अल नाहयान, और बहरीन के विदेश मंत्री अब्दुल्लातीफ बिन राशिद अल ज़ायानी ने अब्राहम समझौते पर हस्ताक्षर किए.

अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि यह समझौता शांति की दिशा में एक नए युग की शुरुआत करेगा. बता दें कि ट्रंप ने अगस्त में इजरायल-यूएई समझौते की घोषणा की थी. वहीं इजरायल-बहरीन समझौते का ऐलान पिछले हफ्ते किया था.

फॉक्स न्यूज को दिए इंटरव्यू में विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ ने कहा कि यह एक उल्लेखनीय उपलब्धि है. राष्ट्रपति ट्रंप के प्रशासन ने पश्चिम एशिया में शांति के लिए हालात तय किए हैं.

राष्ट्रपति चुनाव में ट्रंप को मिल सकता है फायदा!

इन देशों के बीच समझौता, ट्रंप की बड़ी डिप्लोमेटिक जीत मानी जा रही है. कहा जा रहा है कि इससे ट्रंप को अमेरिका में होने वाले राष्ट्रपति चुनाव में इजरायल समर्थक इवांजेलिकल क्रिश्चन्स में अपनी पैठ बनाने में मदद मिलेगी.

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक व्हाइट हाउस के प्रशासनिक अधिकारी का कहना है कि यह ऐतिहासिक समझौता कराने में राष्ट्रपति के सलाहकार एवं दामाद जारेड कुशनर ने अहम भूमिका निभाई है.

Related Posts