हमास ने दागे रॉकेट तो बेंजामिन नेतन्‍याहू को रोकनी पड़ी रैली, फिर इजरायल ने उठाया ये कदम

हमास की गाजा स्ट्रिप से दो रॉकेट्स दागे गए थे, मगर उन्‍हें इजरायल के डोम मिसाइल डिफेंस सिस्‍टम ने मार गिराया. प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्‍याहू को अपनी रैली बीच में ही रोकनी पड़ी.

राकेट दागे जाने की धमकी देते सायरन की वजह से इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्‍याहू को अपनी रैली बीच में ही रोकनी पड़ी. अशडोड शहर में नेतन्‍याहू की रैली थी. सामने आई फुटेज में नेतन्‍याहू की सुरक्षा टीम उन्‍हें घेरती नजर आ रही है.

एक सिक्‍योरिटी गार्ड ने पहले प्रधानमंत्री के कान में कुछ कहा और इसके बाद बेंजामिन नेतन्‍याहू ने हाथ उठाकर लोगों का अभिवादन किया. फिर उन्‍हें जल्‍दी से बिल्डिंग से बाहर निकाला गया.

सेना ने एक बयान में कहा है कि हमास की गाजा स्ट्रिप से दो रॉकेट्स दागे गए थे, मगर उन्‍हें इजरायल के डोम मिसाइल डिफेंस सिस्‍टम ने मार गिराया. नेतन्‍याहू की पार्टी ने एक वीडियो पोस्‍ट कर कहा कि हमास इसलिए डरा हुआ है क्‍योंकि 17 सितंबर के चुनाव में वह जीतने वाले हैं.

बेंजामिन नेतन्‍याहू ने इस घटना के कुछ घंटों पहले ही वादा किया था कि दोबारा चुने जाने पर वह जॉर्डन घाटी को वेस्‍ट बैंक में मिला देंगे.

बेंजामिन नेतन्याहू इजरायल में सबसे लंबे समय तक सेवा देने वाले प्रधानमंत्री हैं. इससे पहले यह कीर्तिमान देश के संस्थापक रहे डेविड बेन गुरियन के नाम था. उन्हें पाचवीं बार के लिए इस साल प्रधानमंत्री चुना गया लेकिन सरकार बनाने में असमर्थ रहने के चलते उन्होंने फिर से चुनाव में जाने का फैसला किया है.

नेतन्याहू वर्तमान में भ्रष्टाचार को लेकर परेशानियों का सामना कर रहे हैं और उनके इस्तीफे की मांग भी की जा रही है. प्रधानमंत्री ने अपने ऊपर लगाए गए सारे आरोपों से इनकार करते हुए इन्हें राजनीति से प्रेरित बताया.

वह 1996 में पहली बार चुनाव जीत कर 46 वर्ष की उम्र में इजराल के सबसे युवा प्रधानमंत्री बने थे. नेतन्याहू 1948 के बाद अस्तित्व में आए देश के बाद पैदा होने वाले पहले ऐसे नेता बने जो प्रधानमंत्री के पद तक पहुंचे.

ये भी पढ़ें

PAK का नापाक प्‍लान: LoC पर लॉन्‍च-पैड्स फिर से एक्टिव, घाटी में घुसपैठ को 275 आतंकी तैयार

बीमार है JeM सरगना मसूद अजहर, अब भाई संभालेगा आतंक की दुकान

जिनेवा में पूरी दुनिया के सामने पाकिस्‍तान इस तरह बेनकाब हो गया