ह्यूमन स्किन पर 9 घंटे तक जीवित रहता है कोरोनावायरस, जापान में हुई स्टडी से हुआ खुलासा

क्लिनिकल इन्फेक्शियस डिजीज जर्नल (CIDJ) में जारी स्टडी के मुताबिक तुलनात्मक रूप से फ्लू की वजह से करीब 1.8 घंटे तक वायरस मानव त्वचा (Human Skin) पर जीवित रह सकता है.

  • TV9 Hindi
  • Publish Date - 4:19 pm, Sun, 18 October 20
Coronavirus
एक जापानी रिसर्च में सामने आया है कि कोरोनावायरस नौ घंटे तक मानव त्वचा पर सक्रिय रह सकता है

जापान (Japan) की एक रिसर्च (Research) में सामने आया है कि कोरोनावायरस (Corona Virus) नौ घंटे तक मानव त्वचा पर सक्रिय रह सकता है, रिसर्च सामने आने के बाद रिसर्चर (Researcher) ने कहा कि कोविद -19 महामारी से निपटने के लिए लगातार हाथ धोने (Hand Wash) की जरूरत है.

क्लिनिकल इन्फेक्शियस डिजीज जर्नल (CIDJ) में जारी स्टडी (Study)  के मुताबिक तुलनात्मक रूप से फ्लू की वजह से करीब 1.8 घंटे तक वायरस (Virus) मानव त्वचा पर जीवित रह सकता है.

ये भी पढ़ें- फोन की स्क्रीन, नोट पर 28 दिन तक कोरोना के रहने वाली स्टडी को अमेरिकी विशेषज्ञ ने बताया बकवास

मृत कोरोना मरीजों की त्वचा का किया गया टेस्ट

स्टडी में यह भी पता चला है कि मानव त्वचा पर कोविद -19 का कारण बनने वाला वायरस (SARS-CoV-2) इन्फ्लूएंजा ए वायरस की तुलना में छूने पर तेजी से फैलता है, इससे महामारी और भी तेजी से फैल सकती है. रिसर्च टीम ने कोरोना मरीज की मौत के एक दिन बाद उनकी त्वचा के सैंपल का टेस्ट किया, जिसके बाद संक्रमण की बात सामने आई है.

कोरोनोवायरस और फ्लू वायरस दोनों ही इथेनॉल लगाने से 15 सेकंड के भीतर निष्क्रिय हो जाते हैं, इथेनॉल का उपयोग हैंड सेनाइटिस में किया जाता है.

ये भी पढ़ें- चीन में फ्रोजन फूड पैकेजिंग से कोरोना संक्रमण का खतरा, स्वास्थ्य प्राधिकरण की चेतावनी

स्टडी में यह भी कहा गया है कि त्वचा पर SARS-CoV-2 वायरस के त्वचा पर लंबे समय तक जीवित रहने से कोरोना फैलने का खतरा बढ़ जाता है. हालांकि बार-बार हाथ की सफाई इस जोखिम को कम कर सकती है.