जानें मसूद को अंतरराष्ट्रीय आतंकी घोषित किए जाने पर क्या बोला चीन

चीन ने बुधवार को अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस द्वारा रखे गए मसूद को वैश्विक आतंकवादी के प्रस्ताव पर कोई आपत्ति नहीं जताई.

नई दिल्ली: जैश-ए-मोहम्मद सरगना मसूद अजहर को अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी घोषित किए जाने के लिए आखिरकार चीन राजी हो गया. चीन ने बुधवार को अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस द्वारा रखे गए मसूद को वैश्विक आतंकवादी के प्रस्ताव पर कोई आपत्ति नहीं जताई. इसी के चलते मसूद को संयुक्त राष्ट्र में वैश्विक आतंकी घोषित किया गया.

भारत इसे अपनी कूटनीतिक जीत के तौर पर देख रहा है. वहीं अब तक भारत की इस पहल में रोड़ा अटका रहे चीन ने भी मसूद को आतंकी मानने से ऐतराज नहीं किया है. चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गेंग शुआंग ने इस मामले पर कहा कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की 1267 अलकायदा प्रतिबंध समिति की लिस्ट में शामिल किए जाने के लिए विस्तृत नियम हैं. जिनका चीन हमेशा से पालन करता रहा है.

गेंग शुआंग ने प्रेस रिलीज जारी करते हुए कहा कि चीन का हमेशा से यह मानना रहा है कि कार्य को निष्पक्ष और पेशेवर तरीके से किया जाना चाहिए और यह सभी पक्षों के बीच ठोस सबूतों और सहमति पर ही आधारित होना चाहिए. चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता का कहना है कि इस मसले पर चीन जिम्मेदाराना तरीके से सभी संबंधित पक्षों से बातचीत कर रहा है.

उन्होंने कहा, ‘हाल ही में संबंधित देशों ने 1267 समिति को प्रपोजल भेजा था. जिसका सावधानीपूर्वक अध्यन करने औरक संबंधित पक्षों की राय के बाद चीन ने तय किया है कि उसे इस प्रपोजल पर कोई आपत्ति नहीं है.’

ये भी पढ़ें: मसूद अजहर ग्लोबल टेररिस्ट घोषित, संयुक्त राष्ट्र में भारत को बड़ी सफलता

ये भी पढ़ें: मसूद अजहर के अंतरराष्ट्रीय आंतकी घोषित होते ही पाकिस्तान ने भी घुटने टेके