कैंसर पीड़ित भाई को संभालती 4 साल की बहन, तस्वीर देख भावुक हो रहे लोग

एक महिला ने अपने बच्चों की तस्वीर शेयर की है जिसमें उसका छोटा बेटा लेकिमिया से पीड़ित है. फोटो में वो उल्टी कर रहा है और उसकी बड़ी बहन उसे सहारा दे रही है.

कैंसर पीड़ित और उनकी जिंदगी को दर्शाती एक मार्मिक तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है. तस्वीर बताती है कि कैंसर न केवल पीड़ित की जिंदगी पर असर डालता है बल्कि उनके परिजन और खास कर की बच्चों पर भी असर डालता है.

एक महिला ने अपने बच्चों की तस्वीर शेयर की है जिसमें उसका छोटा बेटा लेकिमिया से पीड़ित है. फोटो में वो उल्टी कर रहा है और उसकी बड़ी बहन उसे सहारा दे रही है. महिला का नाम कैटलिन बुर्ज है. तस्वीर के साथ वो लिखती हैं- “बच्चों के कैंसर के बारे में एक चीज़ जो आपको नहीं पता वो ये है की यह पूरे परिवार को प्रभावित करता है. आपने हमेशा पैसों या दवाई को लेकर जो दिक्कतें होती है उनके बारे में सुना होगा, पर क्या कभी अपने परिवार वालों या घर के बच्चों की दिक्कतों के बारे में सुना है?”

“कुछ लोगों के लिए यह देखना और पढ़ना बड़ा मुश्किल होगा. मेरे दोनों बच्चे साथ में स्कूल जाते थे और खेलते थे, वो अब हॉस्पिटल के ठंडे कमरे में साथ बैठते हैं. मेरी 4 साल की बेटी, अपने भाई को एम्बुलेंस से ICU जाते हुए देख चुकी है. उसने देखा है चेहरे पर मास्क लगाए दर्जनों डॉक्टर कैसे उसके भाई के शरीर पर सुई चुभाते हैं, उसे दवाइयां देते हैं और इस दौरान उसका भाई असहाय होकर हॉस्पिटल बेड पर लेटा है. उसे नहीं समझ आता चल क्या रहा है. उसे बस इतना पता है कि उसके भाई जो उसका बेस्टफ्रेंड भी है, उसे कुछ हुआ है.”

Cancer kid, कैंसर पीड़ित भाई को संभालती 4 साल की बहन, तस्वीर देख भावुक हो रहे लोग

आप सोच रहे होंगे हमने इतनी छोटी बच्ची को क्यों उसके भाई के साथ रखा? उसे क्यों ये सब देखने दिया? इस सवाल के जवाब में कैटलिन ने लिखा- “बच्चों को एक दूसरे का साथ चाहिए, सपोर्ट चाहिए होता है. जब एक बीमार हो, तो दूसरे को उससे अलग नहीं रखा जा सकता है. पीड़ित को यह महसूस कराया जाना चाहिए कि उसकी केयर की जा रही. इसलिए दोनों को साथ रखा है.”

खेल के बीच में बैकेट (कैंसर पीड़ित बच्चा) जब उल्टी करने के लिए गया, तो उसकी बहन ऑब्रे अपने भाई के साथ खड़े रही और पीछे से सहारा देने लगी.

“पीड़ित के घर के बच्चों के बारे में लोग अक्सर भूल जाते हैं, जबकि वो सबसे ज़्यादा सैक्रिफाइस करते हैं. ऑब्रे को नहीं पता था उसके भाई के साथ क्या हुआ है, फिर भी उसने हमेशा अपने भाई का साथ दिया चाहे वो हॉस्पिटल हो या घर. उसे बड़ी बहन का फ़र्ज़ निभाने की आदत सी हो गयी थी कि अचानक उसकी दुनिया बदल गयी.”

परिवार के फंडरेज़र हैं बताते हैं कि बैकेट लेकिमिया से ग्रस्त हैं. साथ ही उसके बाएं फेफड़े में निमोनिआ है और पिछले अप्रैल से वो एक्यूट रेस्पिरेटरी फेलियर से भी ग्रस्त है. एक PAYPOOL भी बनाया गया है, जो बैकेट के मेडिकल खर्चे के लिए पैसे इकठ्ठा करने का भी काम कर रहा है.

ये भी पढ़ें- फुटबॉल मैच देखने के लिए ‘ब्लू गर्ल’ बनी लड़का, जेल से बचने के लिए खुद को जला डाला