इमरान संग गलबहियां कर तुर्की के राष्‍ट्रपति ने की कश्‍मीर पर उलटबांसी, MEA ने कहा- तथ्‍य जान लें फिर बोलें

तुर्की-पाकिस्‍तान के ज्‍वॉइंट डिक्‍लेरेशन में भी जम्‍मू-कश्‍मीर का जिक्र किया गया है. विदेश मंत्रालय (MEA) ने तुर्की के राष्‍ट्रपति के बयान को सिरे से खारिज किया है.
MEA rejects Turkish President statement on Kashmir, इमरान संग गलबहियां कर तुर्की के राष्‍ट्रपति ने की कश्‍मीर पर उलटबांसी, MEA ने कहा- तथ्‍य जान लें फिर बोलें

तुर्की के राष्‍ट्रपति रिसेप तैयप एर्दोआन ने फिर कश्‍मीर मुद्दा उठाया है. पाकिस्‍तान दौरे पर गए एर्दोआन ने वहां की संसद में कहा कि ‘कश्मीर का मसला जितना पाकिस्तान के लिए अहम है, उतना ही तुर्की के लिए.’ विदेश मंत्रालय (MEA) ने तुर्की के राष्‍ट्रपति के इस बयान को सिरे से खारिज किया है.

तुर्की-पाकिस्‍तान के ज्‍वॉइंट डिक्‍लेरेशन में भी जम्‍मू-कश्‍मीर का जिक्र किया गया है. इसपर विदेश मंत्रालय के आधिकारिक प्रवक्‍ता रवीश कुमार ने कहा कि “हम तुर्की के नेतृत्‍व से कहते हैं कि भारत के आंतरिक मामलों में दखल न दें और तथ्‍यों की पूरी जानकारी रखें. इसमें पाकिस्‍तान से पैदा होने वाले आतंकवाद से भारत और क्षेत्र को खतरा भी शामिल है.”

क्‍या कहा था एर्दोगन ने?

तुर्की के राष्‍ट्रपति ने पाकिस्‍तानी प्रधानमंत्री इमरान खान के साथ प्रेस ब्रीफिंग में कहा, “हम आजादी की लड़ाई के दौरान, पाकिस्‍तानी लोगों ने जिस तरह अपनी रोटी बांटकर हमारी मदद की, उसे हम नहीं भूले हैं और कभी नहीं भूलेंगे. कश्मीर हमारे लिए समान है और रहेगा. यह कल कनकले (Çanakkale) था और यह आज कश्मीर है, कोई अंतर नहीं है.”

एर्दोआन ने कहा, “यह दृष्टिकोण जो वर्तमान स्थिति को बढ़ाता है और कश्मीरी लोगों की स्वतंत्रता और उनके मौलिक अधिकारों को रद्द करता है. कश्मीर समस्या को संघर्ष या उत्पीड़न से नहीं, बल्कि समाधान के आधार पर हल किया जा सकता है”.

ये भी पढ़ें

फिर ड्राइवर बने इमरान खान और सोशल मीडिया पर बहार आ गई

भारत से खाली हाथ जाने की तैयारी में नहीं डोनाल्‍ड ट्रंप, पढ़ें क्‍या है उनका प्‍लान

Related Posts