NASA ने चंद्रयान-2 मिशन के लिए थपथपाई ISRO की पीठ, दिया ये स्‍पेशल ऑफर

NASA ने ISRO की तारीफ करते हुए लिखा, "लैंडर विक्रम, चंद्रमा पर अपने मिशन को साकार करने में कुछ ही किलोमीटर की दूरी पर था."
NASA, NASA ने चंद्रयान-2 मिशन के लिए थपथपाई ISRO की पीठ, दिया ये स्‍पेशल ऑफर

अमेरिका की अंतरिक्ष एजेंसी नेशनल एयरोनॉटिक्‍स एंड स्‍पेस एडमिनिस्‍ट्रेशन (NASA) ने भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) की तारीफ की है. NASA ने कहा कि वह इसरो के Chandrayaan-2 मिशन से बेहद ‘प्रेरित’ हुई है. नासा ने सोलर सिस्‍टम के ज्‍वॉइंट एक्‍सप्‍लोरेशन के लिए इसरो को साथ लेने का ऑफर भी दिया है.

एक दिन पहले ही ISRO के विक्रम लैंडर ने चांद पर ‘हार्ड लैंडिंग’ की थी और उसका संपर्क टूट गया था. हालांकि रविवार को खबर आई कि लैंडर का पता लगा लिया गया है और उससे संपर्क साधने की कोशिश हो रही है.

NASA ने ISRO की तारीफ करते हुए लिखा, “स्‍पेस में मुश्किलें आती हैं. चंद्रयान-2 के जरिए चांद के दक्षिणी ध्रुव पर लैंड करने की ISRO की कोशिश को हम सराहते हैं और हमारे सौरमंडल को साथ में एक्‍सप्‍लोर करने की दिशा में आगे बढ़ना चाहते हैं.”

NASA ने कहा, “लैंडर विक्रम, चंद्रमा पर अपने मिशन को साकार करने में कुछ ही किलोमीटर की दूरी पर था. इसरो हम आपके प्रयासों और अंतरिक्ष में यात्रा जारी रखने की आपकी प्रतिबद्धता की सराहना करते हैं.”

नासा स्पेसफ्लाईट के लिए लिखने वाले क्रिस जी-एनएसएफ ने कहा, “अगर विक्रम सतह पर उतरने में विफल हुआ है, जैसा कि लगता है, तो याद रखें कि वहां ऑर्बिटर अभी है, जहां से 95 प्रतिशत प्रयोग हो रहे हैं. ऑर्बिटर चंद्रमा की कक्षा में सुरक्षित है और अपने मिशन को पूरा कर रहा है. यह पूरी तरह से असफलता नहीं है. बिल्कुल भी नहीं.”

एरिजोना स्टेट यूनिवर्सिटी के स्पेस टेक्नोलॉजी एंड साइंस इनिशिएटिव में रिसर्च डायरेक्टर और साइंस इनिसिएटीव और मार्स ऑपोर्च्यूनिटी रोवर टीम की सदस्य डॉ. तान्या हैरिसन ने कहा, “मिशन कंट्रोल में बहुत सारी महिलाओं को देखकर बहुत अच्छा लगा!”

ये भी पढ़ें

10 साल के बच्चे ने ISRO को लेटर लिखकर वो बात कह दी, जिसका ख्याल किसी को नहीं आया

किसान के बेटे से ISRO चीफ तक का सफर, जानें के सिवन के बारे में दिलचस्प बातें

Related Posts