विवादित नक्शा और बयानों के बाद नेपाल का नया कदम, कहा- विदेश सचिवों की बैठक के लिए तैयार

नेपाल (Nepal) सरकार ने एक राजनयिक नोट के माध्यम से कहा कि कालापानी, लिपुलेख और लिम्पियाधुरा के मुद्दे पर विदेश सचिव आपस में मिल सकते हैं या चर्चा करने के लिए एक वर्चुअल मीटिंग कर सकते हैं.
Nepal's new move after disputed map, विवादित नक्शा और बयानों के बाद नेपाल का नया कदम, कहा- विदेश सचिवों की बैठक के लिए तैयार

नेपाल (Nepal) और भारत (India) के बीच छिड़ा सीमा विवाद (Indo-Nepal Border Dispute) अब एक अलग रंग लेता दिख रहा है. ऐसा इसलिए क्योंकि काठमांडू ने दिल्ली से कहा कि सीमा विवाद के समाधान के लिए वो दोनों देशों के विदेश सचिवों के बीच बैठक करने के लिए तैयार है.

इंडियान एक्सप्रेस के मुताबिक, नेपाल सरकार ने एक एक राजनयिक नोट के माध्यम से कहा कि कालापानी, लिपुलेख और लिम्पियाधुरा के मुद्दे पर विदेश सचिव आपस में मिल सकते हैं या चर्चा करने के लिए एक वर्चुअल मीटिंग कर सकते हैं.

महामारी के बाद विदेश सचिव स्तर की वार्ता 

मालूम हो कि पिछले महीने भारत ने कहा था कि विदेश सचिव, हर्षवर्धन श्रृंगला और शंकर दास बैरागी, Covid-19 महामारी के बाद दोनों देशों के बीच इस मुद्दे को सफलतापूर्वक निपटने के लिए इस पर चर्चा करेंगे. 9 मई को विदेश मंत्रालय (MEA) के प्रवक्ता ने कहा “दोनों पक्ष विदेश सचिव स्तर की वार्ता की समयसीमा तय करने की प्रक्रिया में हैं, लेकिन कोरोनावायरस से निपटने के बाद के बाद दोनों देश इसकी तारीख तय करेंगे.”

देखिए NewsTop9 टीवी 9 भारतवर्ष पर रोज सुबह शाम 7 बजे

विवादित मैप जारी करने के बाद आया प्रस्ताव

नेपाल की तरफ से यह प्रस्ताव नेपाल की सरकार की तरफ से पार्लियामेंट में विवादित मैप से जुड़े संशोधन विधेयक को पेश करने के बाद आया है, जिसमें उसने भारतीय क्षेत्र लिपुलेख, लिम्पियाधुरा और कालापानी क्षेत्रों को उसका हिस्सा बताया था. इसके लिए नेपाल ने एक नया पॉलिटिकल मैप भी जारी कर चुका है.

भारत ने नक्शे का किया था विरोध

इससे पहले नेपाल ने भारतीय क्षेत्रों को अपना बताते हुए जब देश का नया राजनीतिक नक्शा (Political Map) जारी किया था तो भारत ने इसे एकतरफा कृत्य बताया था. MEA ने नेपाल के नए मैप को लेकर कहा था कि यह एकतरफा कृत्य ऐतिहासिक तथ्यों और साक्ष्यों पर आधारित नहीं है. राजनयिक बातचीत के माध्यम से बकाया सीमा मुद्दों को हल करने के लिए द्विपक्षीय समझ के विपरीत है. इसी के साथ भारत ने नेपाल के इस कदम का विरोध किया था.

देखिये #अड़ी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर शाम 6 बजे

Related Posts