क्राइस्टचर्च आतंकी हमले के आरोपी ब्रेंटन टैरंट ने अदालत में दी दोषी न होने की दलील

फेसबुक पर लाइव स्ट्रीमिंग करते हुए सेमी ऑटोमेटिक हथियारों से लैस इस बंदूकधारी ने 15 मार्च को क्राइस्टचर्च में शुक्रवार को नमाज अदा कर रहे लोगों पर गोलियां बरसाकर न्यूजीलैंड के सबसे भीषण आतंकी हमले को अंजाम दिया था.

क्राइस्टचर्च: इसी साल मार्च महीने में न्यूजीलैंड की दो मस्जिदों में 51 लोगों की हत्या के आरोपी ऑस्ट्रेलियाई व्यक्ति को शुक्रवार को अदालत में पेश किया गया. जहां उसने खुद को कई हत्याओं और आतंकवाद का दोषी न मानने की दलील दी है.

मालूम हो कि फेसबुक पर लाइव स्ट्रीमिंग करते हुए सेमी ऑटोमेटिक हथियारों से लैस इस बंदूकधारी ने 15 मार्च को क्राइस्टचर्च में शुक्रवार को नमाज अदा कर रहे लोगों पर गोलियां बरसाकर न्यूजीलैंड के सबसे भीषण आतंकी हमले को अंजाम दिया था.

ऑकलैंड में एक जेल से ऑडियो-विजुअल लिंक के जरिए क्राइस्टचर्च कोर्ट में पेशी के दौरान ब्रेंटन टैरंट चुपचाप बैठा रहा. इस दौरान उसके वकील शेन टैट ने कहा कि उनका मुवक्किल “सभी आरोपों के लिए दोषी न ठहराए जाने की दलील देता है.”

मालूम हो कि ब्रेंटन टैरंट पर 51 लोगों की हत्या, 40 लोगों की हत्या का प्रयास और आतंकी गतिविधि को अंजाम देना का आरोप लगाया गया था. यह पहली बार है जब न्यूजीलैंड में किसी पर आतंकी घटना को अंजाम देने का आरोप लगे हैं. हाई कोर्ट के जस्टिस कैमरन मंडेर ने कहा कि ट्रायल अगले साल 4 मई से शुरू होगा.

ये भी पढ़ें: 10 साल की उम्र में सऊदी सरकार के खिलाफ आवाज उठाने वाले मुर्तजा को मिलेगी मौत की सज़ा?