भारत ही नहीं, सभी पड़ोसियों के प्रति चीन बेहद आक्रामक, दुनिया ड्रैगन से खतरे को पहचाने: पोम्पियो

अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने कहा, "ऐसा कोई पड़ोसी देश नहीं हैं जो संतोषजनक रूप से कह सकता है कि वो जानता है कि उनकी संप्रभुता कहां खत्म होती है और चीन की कम्युनिस्ट पार्टी उस संप्रभुता का सम्मान करती है."
US Secretary of State Mike Pompeo, भारत ही नहीं, सभी पड़ोसियों के प्रति चीन बेहद आक्रामक, दुनिया ड्रैगन से खतरे को पहचाने: पोम्पियो

अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ ने बुधवार को कहा कि भारत के साथ सीमा पर चीन की “अविश्वसनीय रूप से आक्रामक कार्रवाई” अलग नहीं है, बल्कि बड़े प्रारूप पर देखा जाए तो शी जिनपिंग की चीनी कम्युनिस्ट पार्टी अपने पड़ोसियों के साथ लगातार सीमा विवाद में शामिल रही है.

पोम्पियो ने कहा कि उन्हें विश्वास था कि दुनिया शी जिनपिंग की पार्टी द्वारा पेश किए गए खतरे को समझ जाएगी और इस तरह से जवाब देने के लिए एक साथ आएगी जो “शक्तिशाली और महत्वपूर्ण” है. अपने क्षेत्र का विस्तार करने के लिए चीन के प्रयासों से जुड़े एक सवाल के जवाब में पोम्पियो ने कहा, “मैंने (विदेश मंत्री) एस जयशंकर के साथ कई बार इस बारे में बात की है. चीन ने अविश्वसनीय रूप से आक्रामक कार्रवाई की और भारत ने इसका माकूल जवाब भी दिया.”

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

मालूम हो कि भारत और चीन के बीच हुए समझौते के बाद पूर्वी लद्दाख इलाके से चीन ने अपने सैनिकों को पीछे हटाना शुरू कर दिया है. पोम्पियो ने कहा, “मैंने इसे शी जिनपिंग और पूरे क्षेत्र में और वास्तव में, दुनिया भर में उनके व्यवहार के संदर्भ में रखा है. मुझे लगता है कि आपको इसे बड़े संदर्भ में रखने की आवश्यकता है.” इस दौरान अमेरिकी विदेश मंत्री ने बड़ी संख्या में सीमा और समुद्री विवादों का जिक्र किया, जिनको लेकर चीन अपने पड़ोसियों के साथ उलझा हुआ है.

उन्होंने कहा, “ऐसा कोई पड़ोसी देश नहीं हैं जो संतोषजनक रूप से कह सकता है कि वो जानता है कि उनकी संप्रभुता कहां खत्म होती है और चीन की कम्युनिस्ट पार्टी उस संप्रभुता का सम्मान करती है. भूटान के लोगों के लिए भी यह निश्चित रूप से सच है.”

Related Posts