युद्ध की धमकी के बाद पाकिस्तान का यू-टर्न, विदेश मंत्री बोले- हम भारत से बातचीत को तैयार

पाकिस्‍तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने शनिवार को कहा कि उनका मुल्‍क भारत के साथ 'सशर्त' द्विपक्षीय' बातचीत करने को तैयार है.

जम्मू-कश्मीर मामले पर बौखलाए पाकिस्तान ने भारत के साथ बातचीत की पेश की है. पाकिस्‍तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने शनिवार को कहा कि उनका मुल्‍क भारत के साथ ‘सशर्त’ द्विपक्षीय’ बातचीत करने को तैयार है.

हमने बातचीत के लिए इनकार नहीं किया…

कुरैशी ने कहा, ‘हमने कभी बातचीत के लिए न नहीं कहा, हालांकि, हम भारत द्वारा बनाए जा रहे माहौल में बातचीत नहीं देख सकते.’ बाहरी हस्तक्षेप के मुद्दे पर बोलते हुए कुरैशी ने कहा कि अन्य देशों के साथ संपर्क कर इस पर काम किया जा रहा है ताकि भारत पर दबाव बनाकर टेबल पर बातचीत के लिए लाया जा सके.

‘तीसरा मुल्‍क मध्‍यस्‍थता करे तो खुशी होगी’

कुरैशी ने कहा- “इस मसले पर यदि कोई तीसरा मुल्‍क मध्‍यस्‍थता करे तो उन्‍हें खुशी होगी.” कुरैशी ने यह सुझाव दिया कि भारत के साथ बातचीत शुरू हो सकती है जब वे जम्मू कश्मीर में नजरबंद किए गए राजनेताओं को वापस छोड़ दे. उन्होंने कहा कि कश्मीर मुद्दे पर तीन पक्ष हैं- पाकिस्तान, भारत और कश्मीर के लोग.

‘द न्यूयॉर्क टाइम्स’ में इमरान ने लिखा लेख

वहीं ‘द न्यूयॉर्क टाइम्स’ में एक लेख में इमरान खान ने फिर चेतावनी दी कि अगर विश्व कश्मीर पर भारत के फैसले को रोकने के लिए कुछ नहीं करता तो दोनों परमाणु संपन्न देश सैन्य युद्ध के करीब पहुंच जाएंगे. इससे दुनिया भर को गंभीर परिणाम भुगतना पड़ेंगे.

भारत के साथ बातचीत के बारे में कही ये बात

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने भारत के साथ बातचीत के लिए कुछ शर्तें रखी हैं. इन शर्तों का जिक्र न्यूयॉर्क टाइम्स के लिए लिखे लेख में किया है. इमरान खान ने कहा, भारत के साथ तभी बातचीत शुरू हो सकती है जब वह कश्मीर से सेना को हटा ले और वहां कर्फ्यू और तालाबंदी जैसे हालात को खत्म करे.

इमरान खान ने लिखा है कि बातचीत में कश्मीर के जितने भी हितधारक हैं उन सभी को शामिल करना होगा तभी एक समाधान तक पहुंच सकते हैं और इस क्षेत्र में शांति और स्थिरता बनी रह सकती है.

यह रहा है भारत का रुख 

द्विपक्षीय बातचीत के मसले पर भारत सरकार का रुख बेहद साफ रहा है. भारत सरकार बार-बार कहती रही है कि पाकिस्तान से बात तभी होगी जब वह कश्‍मीर में आतंकियों की घुसपैठ कराना बंद कर देगा. हाल ही में रक्षामंत्री राजनाथ ने साफ लफ्जों में यह भी कहा था कि पाकिस्तान से आगे भी जो बातचीत होगी, अब वह पीओके पर होगी.

ये भी पढ़ें- NRC: ‘सोने को चटाई नहीं और हमसे मांग रहे तंबू’, इमरान को कांग्रेस के अधीर रंजन का मुंहतोड़ जवाब

ये भी पढ़ें- पीएम मोदी की आलोचना कर रहे थे पाकिस्तान के रेलमंत्री, लग गया करंट