पाकिस्तान ने जम्मू-कश्मीर पर UN को फिर लिखा प्रोपेगेंडा लेटर, मालदीव ने भी नहीं दिया भाव

पाकिस्तान ने इस पत्र में जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाए जाने का विरोध किया है.

पाकिस्तान जम्मू-कश्मीर को लेकर प्रोपेगेंडा फैलाने से बाज नहीं आ रहा है. इस बार पाक सरकार ने संयुक्त राष्ट्र के मानवाधिकार आयोग का रुख किया है. पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय के मुताबिक विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने मानवाधिकार आयोग को पत्र लिखा है. इस पत्र में उन्होंने जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाए जाने का विरोध किया है.

UN ने दिया दे रहा PAK को भाव
पाकिस्तान ने ये प्रोपेगेंडा लेटर को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद और संयुक्त राष्ट्र के सदस्य देशों को भी भेजा है. इन सबके बावजूद पाक सरकार की ये नापाक कवायद काम नहीं आ रही है. पाकिस्तान के प्रॉपेगैंडा को यूएन किसी तरह का भाव नहीं दे रहा है. यूएन पहले ही इसे द्विपक्षीय चर्चा के जरिए ही निपटाने की सलाह दे चुका है.

इतना ही नहीं पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने मालदीव के अपने समकक्ष से भी इसे लेकर बातची की है. हालांकि मालदीव ने भी पाकिस्तान से साफ कह दिया है कि आर्टिकल 370 हटाना भारत का आंतरिक मामला है. मालदीव के विदेश मंत्री अब्दुल्ला शाहिद ने कहा कि भारत सरकार ने यह फैसला अपने संविधान के मुताबिक लिया है.

लगातार नाकाम साबित हो रहा PAK
इससे पहले पाकिस्तान ने जम्मू-कश्मीर को लेकर 4 अगस्त को संयुक्त राष्ट्र के मानवाधिकार आयुक्त मिशेल बैशले को पत्र लिखा था. इसके अगले ही दिन यानी 5 अगस्त को आर्टिकल 370 हटाए जाने के बाद 8 अगस्त को टेलिफोन पर भी बात की थी. लेकिन पाकिस्तान अपना प्रोपेगेंडा फैलाने में पूरी तरह से नाकाम साबित हुआ.

बता दें कि भारत अंतरराष्ट्रीय समुदाय से पहले ही यह साफ कर चुका है कि जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा खत्म करना उसका आंतरिक मामला है. साथ ही भारत ने पाकिस्तान को भी हकीकत स्वीकार करने की नसीहत दी है. लेकिन पाकिस्तान अपनी आदतों से बाज नहीं आ रहा है.

ये भी पढ़ें-

पीएम मोदी अबू धाबी पहुंचे, क्राउन प्रिंस से होगी मुलाकात फिर UAE देगा ‘ऑर्डर ऑफ जायद’ सम्‍मान

राहुल गांधी आज जाएंगे J&K, प्रशासन ने कहा- अभी न करें दौरा बड़ी मेहनत से शांति स्‍थापित की है

कांग्रेस नेता कर्ण सिंह का CM योगी को पत्र, कहा-अयोध्या में भगवान ‘राम-सीता’ की मूर्ति साथ बने