पाकिस्तानी स्कॉलर ने इमरान को दिखाया आईना, कहा- हार के डर से नहीं लड़ रहे युद्ध

पाकिस्तान में महंगाई के असर से आम आदमी रो रहा है ऐसे में भारत से युद्ध करना पाकिस्तान के लिए कांटो पर चलने जैसा होगा.

नई दिल्ली: आर्टिकल 370 को लेकर पाकिस्तान बौखलाया हुआ है. चीन, अमेरिका और संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएसी) सभी जगह जाकर पाकिस्तान ने मुद्दे का अंतरराष्ट्रीयकरण करने की कोशिश की लेकिन जब बात नहीं बनी तो वो बैखला गए हैं. पाकिस्तान में परमाणु हथियार के जनक माने जाने वाले वैज्ञानिक अब्दुल कादिर खान ने कुछ दिनों पहले स्थानीय मीडिया से बातचीत में कहा था कि भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव में पाकिस्तान की जीत होगी क्योंकि उसके पास परमाणु शक्ति है.

हालांकि ‘मिस्टर परमाणु’ राष्ट्रवाद के नशे में अपनी असलियत भूल गए हैं और उनको आईना दिखाया है वहीं के एक स्कॉलर ने.

वर्तमान में लंदन की यूनिवर्सिटी में रिसर्च एसोसिएट पद पर कार्यरत आयशा सिद्दीकी ने अपने एक दोस्त से बातचीत का हवाला देते हुए कहा कि उनसे दोस्त ने पूछा कि पाक सेना लड़ाई क्यों नहीं लड़ रही. मैने कहा वह हार जाएगी.

‘मिलिट्री इंक (Military Inc.), इनसाइड पाकिस्तान मिलिट्री इकोनॉमी’ की लेखिका आयशा दरअसल आर्टिकल 370 और आर्टिकल 35ए को निष्प्रभावी बनाए जाने के फैसले पर सिने इंक से बातचीत कर रही थी. उन्होंने कहा, ‘पाकिस्तान और उनकी सेना इस स्थिति में बिल्कुल भी नहीं है कि वह कश्मीर मुद्दे पर भारत से युद्ध लड़े. इसके पीछे देश की खराब होती अर्थव्यवस्था और बढ़ती मंहगाई मुख्य वजह है. जिसकी वजह से आम लोगों की जिंदगी में गंभीर प्रभाव देखने को मिल रहे हैं.’

वह कहती हैं ‘मैं अपने एक दोस्त से पीओके में बातचीत कर रही थी तो मैंने उनसे पूछा कि पाकिस्तानी सेना भारत से युद्ध क्यों नहीं कर रही? तो उन्होंने कहा कि हार के डर से जंग से बचा जा रहा है.’

लेखिका ने आगे कहा ‘आम जनता भी समझ रही है कि भारत के खिलाफ युद्ध लड़ने का यह सही समय नहीं है. ऐसा पहली बार है कि पाकिस्तान के आम आदमी को भी इस बात का अहसास हो चुका है कि उनका देश इस समय युद्ध लड़ने के कूबत से बाहर है. बीते 72 सालों से पाकिस्तानी सेना का फोकस सिर्फ कश्मीर और भारत तक ही सीमित रहा है. एक दिन जब वह उठे तो पता चला कि कुछ नहीं बचा है. पाकिस्तानी सेना में कुछ समूह काफी ग़ुस्से में हैं और वे सवाल उठाएंगे.’

और पढ़ें- तस्करी से परमाणु हथियार बनाने वाले इमरान अपने गिरेबान में झांके