चीन, अमेरिका और UAE के बाद अब रूस ने भी कश्मीर मुद्दे पर झटका पाकिस्तान का हाथ

रूस की ओर से जारी प्रेस विज्ञप्ति के मुताबिक 14 अगस्त को पाकिस्तानी पक्ष की पहल पर सर्गेई लावरोव, रूसी संघ के विदेश मामलों के मंत्री और एस.एम. कुरैशी, पाकिस्तान के विदेश मंत्री के बीच फोन पर बातचीत हुई थी.

मास्को: पाकिस्तान के विदेश मंत्री ने जब फोन करके रूस के विदेश मंत्री के सामने कश्मीर का दुखड़ा रोया तो रूस के विदेश मंत्री ने उन्हें दो टूक कह दिया कि इस मामले को द्विपक्षीय तरीके से ही हल करें. इसी के साथ कश्मीर मसले के अंतरराष्ट्रीयकरण के पाकिस्तानी मंसूबे पर पानी फिर गया.

रूस की ओर से जारी प्रेस विज्ञप्ति के मुताबिक 14 अगस्त को पाकिस्तानी पक्ष की पहल पर सर्गेई लावरोव, रूसी संघ के विदेश मामलों के मंत्री और एस.एम. कुरैशी, पाकिस्तान के विदेश मंत्री के बीच फोन पर बातचीत हुई थी.

इस बातचीत के दौरान जम्मू और कश्मीर राज्य की कानूनी स्थिति को बदलने के लिए भारत द्वारा किए गए फैसले के बाद पाकिस्तान और भारत के बीच बिगड़ते संबंधों के बीच दक्षिण एशिया की स्थिति पर चर्चा की गई.

प्रेस विज्ञप्ति के मुताबिक रूसी पक्ष ने तनाव को कम करने की आवश्यकता पर जोर दिया और कहा कि राजनीतिक और कूटनीतिक माध्यम से पाकिस्तान और भारत के बीच द्विपक्षीय वार्ता से ही मतभेदों को सुलझाया जा सकता है संयुक्त राष्ट्र में रूस के प्रतिनिधि इस स्थिति का ही पालन करेंगे.

मालूम हो कि जम्मू कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाए जाने के भारत के फैसले के बाद से ही पाकिस्तान कई देशों का ध्यान इस ओर आकर्षित करने की कोशिश में जुटा है. हालांकि हर देश पाकिस्तान को शिमला समझौते की याद दिलाते हुए कहा रहा है कि यह भारत का आंतरिक मामला है और कश्मीर मसले को लेकर बढ़े तनाव को ये दो देश सिर्फ द्विपक्षीय वार्ता के जरिए ही सुलझा सकते हैं.

ये भी पढ़ें- भारत और चीन अब नहीं रहे विकासशील देश, इन्हें नहीं उठाने देंगे WTO का फायदा: डोनाल्ड ट्रंप