निजी क्षेत्र के लिए रक्षा उद्योग खोलने की तैयारी में पाकिस्तान, तुर्की से निवेश की उम्मीद

पाकिस्तान अपने प्रमुख सरकारी स्वामित्व वाले रक्षा उद्यमों को फिर से व्यवस्थित कर रहा है, ताकि उन्हें ज्यादा से ज्यादा स्वतंत्र नियंत्रण दिया जा सके.
Pakistan defense industry, निजी क्षेत्र के लिए रक्षा उद्योग खोलने की तैयारी में पाकिस्तान, तुर्की से निवेश की उम्मीद

पाकिस्तान ने अपने स्वदेशी इन्फ्रास्ट्रक्चर उद्योगों को प्रोत्साहन देने के इरादे से निजी क्षेत्र के प्रतिभागियों के लिए अपने रक्षा उद्योग को खोलने का फैसला किया है. सूत्रों ने कहा कि ये कदम नई रक्षा उत्पादन और ऑफसेट नीतियों के तहत उठाया गया है. सूत्रों ने कहा कि पाकिस्तान ने इसके लिए तुर्की से मदद मांगी है, जो रक्षा क्षेत्र में निवेश के लिए मिडिल ईस्ट ब्लॉक में एक उभरती हुई शक्ति के रूप में अपनी स्थिति को ऊपर उठाने की कोशिश कर रहा है.

सूत्र ने कहा, “पाकिस्तान सरकार एक नई रक्षा उत्पादन नीति जारी कर रही है, जिसका उद्देश्य स्वदेशी रक्षा इन्फ्रास्ट्रक्चर को बढ़ाना है.” सूत्र ने कहा कि वह एक रक्षा ऑफसेट नीति भी तैयार कर रहा है. शुरुआती रक्षा ऑफसेट नीति का गठन 2014 में किया गया था. सूत्र ने आगे कहा, “यह नीति राष्ट्र के स्वामित्व वाले उद्यमों को अधिक स्वायत्तता प्रदान करते हुए रक्षा अनुसंधान, विकास और इन्फ्रास्ट्रक्चर उद्योग में निजी निवेश की अनुमति देगी.”

विदेशों पर निर्भरता कम करना चाहता है पाकिस्तान

सूत्रों ने कहा कि पाकिस्तान का रक्षा उत्पादन मंत्रालय इसे और ज्यादा कुशल और व्यवहार्य बनाने के लिए आंतरिक रूप से भी फिर से गठन कर रहा है. पाकिस्तान अपने प्रमुख सरकारी स्वामित्व वाले रक्षा उद्यमों को फिर से व्यवस्थित कर रहा है, ताकि उन्हें ज्यादा से ज्यादा स्वतंत्र नियंत्रण दिया जा सके. सूत्रों ने ये भी कहा कि पाकिस्तान विदेशी निर्भरता को कम करना, राजस्व पैदा करना और नौकरी के अवसरों में बढ़ोतरी चाहता है. यही वजह है कि वह रक्षा इन्फ्रास्ट्रक्चर क्षेत्र में निजी क्षेत्रों को अवसर देना चाहता है.

पाकिस्तान इस क्षेत्र में भारी निवेश करने की योजना बना रहा है. शुरुआत में रक्षा उत्पादन में इस्लामाबाद की मदद करने के लिए, अंकारा राइफल्स, एसएमजी (सबमशीन गन) -पीके, एमपी-5 असॉल्ट राइफल और जी-3 एस असॉल्ट राइफलों की खरीद के लिए तत्काल पाकिस्तान की ऑर्डिनेंस फैक्ट्री के साथ एक सौदा कर रही है.

इस साल की शुरुआत में तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तैयब एर्दोआन ने लगभग हर क्षेत्र में दोनों देशों की साझेदारी को मजबूत करने के लिए पाकिस्तान की दो दिवसीय यात्रा की थी. एर्दोआन के साथ तुर्की के प्रतिनिधिमंडल में निवेशक, कॉर्पोरेट उद्योग के प्रमुख, व्यापारी और मंत्री शामिल थे. यात्रा के दौरान एर्दोआन ने जम्मू-कश्मीर मुद्दे पर भी टिप्पणी की थी.

Related Posts