पाकिस्तान में बलात्कारी को नपुंसक बनाए जाने की सजा के पक्ष में इमरान खान

पाकिस्तान (Pakistan) में विदेशी महिला के साथ हुए सामूहिक बलात्कार मामले में एक गिरफ्तारी हो चुकी है. पाक प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) ने बलात्कार मामलों में अपराधी को नपुंसक बनाए जाने की सजा के पक्ष में टिप्पणी की है.
rape cases in pakistan, पाकिस्तान में बलात्कारी को नपुंसक बनाए जाने की सजा के पक्ष में इमरान खान

पाकिस्तान (Pakistan) में विदेशी महिला के साथ हुए गैंगरेप के बाद बड़ी संख्या में लोग सड़कों पर उतर आए थे और विरोध प्रदर्शन कर रहे थे. मामले में हुई गिरफ्तारी के बाद पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) ने कहा कि जघन्य यौन अपराधों में नपुंसक (कैमिकल कास्ट्रेशन- रासायनिक तरीके से बधिया करना) बनाने की सजा देनी चाहिए.

हाल ही में लाहौर के पास एक विदेशी महिला, जो दो बच्चों की मां है, के साथ कुछ लोगों ने गैंगरेप किया था. कार में पेट्रोल खत्म होने के चलते उसकी गाड़ी बीच सड़क पर बंद हो गई. कुछ लोगों ने गाड़ी की खिड़की का शीशा तोड़कर उसे बाहर खींच लिया और उसके बच्चों के सामने उसके साथ रेप किया, जिसके बाद बड़ी संख्या में महिलाएं पाकिस्तान की सड़कों पर उतर आईं थीं.

पुलिस के एक अधिकारी ने घटना के लिए पीड़िता को ही दोषी ठहराया था, जिसके बाद महिलाओं का गुस्सा और बढ़ गया. पुलिस अधिकारी ने कहा था कि महिला के साथ ये घटना इसलिए घटी क्योंकि वो बिना किसी पुरुष साथी के रात में अकेले ड्राइविंग कर रही थी.

मामले पर बोलते हुए इमरान खान ने कहा कि जघन्य यौन अपराधों में सार्वजनिक रूप से फांसी की सजा होनी चाहिए लेकिन इससे उन देशों के साथ हमारे व्यापारिक संबंधों पर प्रभाव पड़ेगा, जो मौत की सजा का विरोध करते हैं जैसे, यूरोपीय संघ.

दवाओं के इस्तेमाल से दी जाती है सजा

पाकिस्तानी न्यूज स्टेशन चैनल 92 को दिए एक इंटरव्यू में यौन अपराधों पर बोलते हुए इमरान खान ने कहा, ‘मुझे लगता है कि कैमिकल कास्ट्रेशन की सजा मिलनी चाहिए, मैंने पढ़ा है कि कई देशों में ये पहले से है. उन्होंने कहा कि कैमिकल कास्ट्रेशन में किसी व्यक्ति की कामवासना को कम करने के लिए दवाओं का इस्तेमाल करना पड़ता है.

इमरान खान का बयान मामले में दो संदिग्धों में से एक शफकत अली की गिरफ्तारी के बाद आया है. पंजाब प्रांत के मुख्यमंत्री उस्मान बुज़दार ने ट्विटर पर कहा, ‘उसके डीएनए का मिलान हो गया है और उसने अपना अपराध कबूल कर लिया है.’वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने गिरफ्तारी की पुष्टि करते हुए कहा कि दूसरे संदिग्ध की तलाश जारी है.

पाकिस्तान में है महिलाओं की दयनीय स्थिति

पिछले हफ्ते की घटना के बाद लाहौर पुलिस चीफ उमर शेख को अपने बयान चलते लोगों के गुस्से और विरोध का सामना करना पड़ा था. उन्होंने घटना के लिए पीड़िता को जिम्मेदार बताया था जिसके लिए उनसे इस्तीफे की मांग की गई. सोमवार को उमर शेख ने माफी मांगी. पाकिस्तान में महिलाओं को दूसरे दर्जे का नागरिक माना जाता है इसलिए बलात्कार जैसे मामलों में मुकदमा चलाना बेहद मुश्किल होता है.

कानूनी एक्सपर्ट ओसामा मलिक ने AFP को बताया कि बलात्कार मामलों में सजा की दर दो प्रतिशत तक कम हो सकती है. उन्होंने कहा कि नाबालिग के साथ हुए बलात्कार मामलों में सजा दर और भी कम है. यही कारण है कि बलात्कार के मामले कम दर्ज होते हैं.

Related Posts