PAK अफसरों का जीना हुआ दुश्वार, इमरान खान ने मीटिंग में चाय-बिस्किट पर भी लगा दी रोक

पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ सरकार ने मौजूदा वित्तीय वर्ष में नई गाड़ी या लग्जरी सामान खरीदने पर रोक लगा दी है.

पाकिस्तान पिछले काफी समय से आर्थिक तंगहाली से जूझ रहा है. भारत के साथ व्यापारिक संबंध खत्म करने के बाद हालात दिन-प्रतिदिन बत्तर होते जा रहे हैं. पाकिस्तान दिवालिया होने की कगार पर आ गया है. नौबत ये आ गई है कि सरकार ने आधिकारिक बैठकों के दौरान रिफ्रेशमेंट के लिए चाय और बिस्किट पर भी बैन लगा दिया है.

पाकिस्तान के अखबार ‘डॉन’ की रिपोर्ट के मुताबिक, इमरान सरकार ने ऑफिशियल मीटिंग के दौरान रिफ्रेशमेंट में कटौती की है. मीटिंग में परोसे जाने वाले चाय और बिस्किट पर भी बैन लगाया है. ऐसे में डायबिटीज या अन्य बीमारियों से जूझ रहे अधिकारियों के लिए घंटों मीटिंग में बिना कुछ खाए-पिए बैठना मुश्किल हो रहा है.

नई गाड़ी या लग्जरी सामान खरीदने पर रोक
पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ सरकार ने मौजूदा वित्तीय वर्ष में नई गाड़ी या लग्जरी सामान खरीदने पर रोक लगा दी है. इसके अलावा भी कई तरह की कॉस्ट कटिंग की गई है. सरकार ने अधिकारियों के लिए एक से ज्यादा अखबार और मैगजीन पर भी बैन लगा दिया है.

पाकिस्तान में संघीय सरकार की ओर से नई नौकरियों पर रोक लगा दी गई है. इसके बाद अब यह फैसला लिया गया है कि संघीय सरकार विकासपरक योजनाओं को छोड़कर अन्य किसी भी काम के लिए किसी नए रोजगार का सृजन नहीं करेगी.

सिर्फ एक मैगजीन, न्यूजपेपर का होगा इस्तेमाल
पाकिस्तान के वित्त मंत्रालय द्वारा जारी मेमोरेंडम ऑफ ऑफिस के मुताबिक, अधिकारी सिर्फ एक मैगजीन और न्यूजपेपर का ही इस्तेमाल कर सकेंगे. बिजली, गैस, टेलिफोन और पानी समेत तमाम चीजों की खपत न्यूनतम रखने की कोशिश की जाएगी. सभी आधिकारिक कार्यों में पेज के दोनों साइड इस्तेमाल किए जाएंगे.

पाकिस्तान के वित्त विभाग की रिपोर्ट के मुताबिक, पाकिस्तान के विदेशी कर्ज में पिछले तीन वित्तीय वर्षों में क्रमश: 6.82 अरब डॉलर, 4.77 अरब डॉलर और 6.64 अरब डॉलर की बढ़ोत्तरी हुई थी. ये आंकड़े 2015-16 से 2017-18 के बीच के हैं.

ये भी पढ़ें-

2019 G-7 Summit: संयुक्त राष्ट्र के महासचिव से की PM मोदी ने मुलाकात

G7 समूह का हिस्सा नहीं भारत, फिर समिट में क्यों मिला निमंत्रण?

G7 समिट में शामिल होंगे पीएम मोदी, कश्मीर मुद्दे पर अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप से हो सकती है चर्चा