कश्मीर के लिए तड़पने वाले इमरान खान फ्रेंडशिप मोड में, बोले- अब हमें कोई भारत के करीब लाए

इमरान ने इस इंटरव्यू में पाकिस्तान के आर्थिक संकट से लेकर ईरान-अमेरिका के टकराव तक सभी मुद्दों पर बात की.

बात-बात पर युद्ध और कश्मीर का राग छेड़ने वाले पाकिस्तान को अब भारत से दोस्ती करने का विचार आया है. रोटी तक को मोहताज हो रहे पाकिस्तान को अपने आर्थिक संकट का समाधान अब भारत की दोस्ती में दिखने लगा है.

बुधवार को पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने दावोस में चल रहे वर्ल्ड इकनॉमिक फोरम (WEF) में अपने देश के आर्थिक संकट को छोड़, कश्मीर, नागरिकता कानून, CAA Protest और युद्ध समेत सब मुद्दों पर बोला. लेकिन एक इंटरव्यू में उनका रुख कुछ बदला-बदला सा नजर आया.

दरअसल मीडिया काउंसिल को दिए इंटरव्यू में इमरान ने कहा, “जब भारत-पाकिस्तान के संबंध सामान्य होते हैं, तब आर्थिक वृद्धि के तमाम मौके उभरते हैं. दोनों देशों के बीच व्यापार शुरू होने से पाकिस्तान की आर्थिक स्थिति में भी सुधार होगा.” इतनी शिकायतों के बाद आखिर में इमरान खान ने पाकिस्तान और भारत के रिश्तों में सुधार की उम्मीद जताई है.

इमरान ने इस इंटरव्यू में पाकिस्तान के आर्थिक संकट से लेकर ईरान-अमेरिका के टकराव तक सभी मुद्दों पर बात की.

इतना ही नहीं परमाणु हमले की धमकी देने वाला पाकिस्तान अब चाहता है कि UN और अमेरिका जल्द ही दोनों देशों की बीच के संबंधों को सामान्य कराने में मदद करें. इमरान ने कहा, “दो परमाणु देशों के बीच संघर्ष को बढ़ने नहीं दे सकते हैं, इसलिए यूएन और अमेरिका को हस्तक्षेप करने की जरूरत है.”

ये भी पढ़ें:

अमेरिका में ड्यूटी के दौरान अमृत सिंह पहन सकेंगे पगड़ी, हैरिस काउंटी के इतिहास में पहले सिख