पाकिस्तान ने वरिष्ठ भारतीय राजनयिक को किया तलब, संघर्ष विराम उल्लंघन का लगाया आरोप

विदेश कार्यालय (Foreign Office) की ओर जारी बयान में कहा गया कि भारतीय सेना (Indain Army) ने मंगलवार को हॉट्सप्रिंग और जैंड्रोट में "अंधाधुंध और गैर-जिम्मेदार गोलीबारी" की. इस फायरिंग में अंद्राला नार गांव के तीन लोगों को गंभीर चोट लगी है.

पाकिस्तान (Pakistan) ने शुक्रवार को भारतीय उच्चायोग (Indian High Commission) से एक वरिष्ठ राजनयिक को तलब किया. लाइन ऑफ कंट्रोल (LoC) पर भारतीय सेना (Indian Army) की ओर से कथित तौर पर किए गए सीजफायर के उल्लंघन को लेकर अपना विरोध जताने के लिए तलब किया गया. विदेश विभाग की ओर जारी बयान में कहा गया कि भारतीय सेना ने मंगलवार को हॉट्सप्रिंग और जैंड्रोट में “अंधाधुंध और गैर-जिम्मेदार गोलीबारी” की. इस फायरिंग में अंद्राला नार गांव के 15 साल के इरम रियाज, 26 साल की नुसरत कौसर और 16 साल के मुखील को गंभीर चोट लगी है.

पाकिस्तान का दावा है कि ‘भारतीय सेनाएं एलओसी और वर्किंग बाउंड्री (डब्ल्यूबी) के पास आर्टिलरी फायर, भारी-कैलिबर मोर्टार और स्वचालित हथियारों के साथ नागरिक आबादी वाले क्षेत्रों को लगातार निशाना बना रही हैं. इस साल 2,280 संघर्ष विराम उल्लंघन में 18 लोग मारे गए और 183 घायल हुए हैं.’

‘2003 के युद्धविराम समझौते का हो सम्मान’

विदेश कार्यालय ने कहा, “भारतीय पक्ष को 2003 के युद्धविराम समझौता का सम्मान करने, जानबूझकर संघर्ष विराम उल्लंघन की इस तरह की अन्य घटनाओं की जांच करने और नियंत्रण रेखा व डब्ल्यूबी के साथ शांति बनाए रखने को लेकर तलब किया गया.”

भारत और पाकिस्तान के बीच आरोप-प्रत्यारोप जारी

गौरतलब है कि भारत और पाकिस्तान के बीच आरोप-प्रत्यारोप का खेल जारी है, क्योंकि वार्ता होने की उम्मीद धूमिल पड़ते जाने के साथ दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ता ही जा रहा है. एलओसी के दोनों तरफ भारी गोलाबारी और हताहतों की खबरें आने के बीच दोनों पक्षों की ओर से पूरी ताकत के साथ आने वाले राजनयिक बयान भी आक्रामक हैं.

‘पाकिस्तान के साथ अच्छे संबंध रखना चाहते हैं लेकिन…’

हाल ही में, भारतीय विदेश राज्य मंत्री वी मुरलीधरन ने कहा कि नई दिल्ली पाकिस्तान के साथ अच्छे पड़ोसी संबंध रखना चाहती है, लेकिन इसके लिए इस्लामाबाद को “आतंकवाद के खिलाफ विश्वसनीय, सत्यापित कार्रवाई करके एक अनुकूल माहौल बनाना होगा.”

‘उचित माहौल बनाना भारत की जिम्मेदारी’

यह कथन पाकिस्तान को ठीक नहीं लग रहा क्योंकि उसने यह कहा कि “अवैध और एकतरफा कार्रवाइयों को बंद कर रिश्तों को सामान्य बनाने के लिए उचित माहौल बनाना भारत की जिम्मेदारी है. भारत कश्मीरी लोगों के खिलाफ राज्य के आतंकवाद को समाप्त करे और विवाद को अंतर्राष्ट्रीय कानून के अनुसार हल करे.”

Related Posts