पाकिस्‍तान के आर्मी चीफ बाजवा के कार्यकाल पर सुप्रीम कोर्ट ने चलाई कैंची

अदालत ने कहा कि सैन्य प्रमुख इस पद पर छह महीने बने रहेंगे. छह महीने के अंदर देश की संसद को सेना प्रमुख के सेवा विस्तार या अन्य मुद्दों के सिलसिले में स्पष्ट कानून बनाना होगा.
Supreme Court cuts Bajwa extension, पाकिस्‍तान के आर्मी चीफ बाजवा के कार्यकाल पर सुप्रीम कोर्ट ने चलाई कैंची

इस्लामाबाद: पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को कुछ शर्तों के साथ जनरल कमर जावेद बाजवा को सैन्य प्रमुख पद पर छह महीने तक बने रहने की अनुमति दी. शीर्ष अदालत ने जनरल बाजवा के सेवा विस्तार मामले की सुनवाई करते हुए यह फैसला सुनाया.

अदालत ने कहा कि सैन्य प्रमुख इस पद पर छह महीने बने रहेंगे. छह महीने के अंदर देश की संसद को सेना प्रमुख के सेवा विस्तार व अन्य मुद्दों के सिलसिले में स्पष्ट कानून बनाना होगा. अदालत ने कहा कि सरकार ने आश्वस्त किया है कि वह छह महीने में इस सिलसिले में कानून बनाएगी.

अदालत ने कहा कि वह इस मामले का अंतिम फैसला संसद पर छोड़ रही है. संसद संविधान के नियमों के तहत सेना प्रमुख के सेवाकाल से संबंधित कानून बनाए. अदालत ने कहा कि इस छह महीने तक जनरल बाजवा अपने पद पर बने रहेंगे. इस सिलसिले में सरकार ने जो अधिसूचना जारी की है, वह आज से छह महीने तक प्रभावी होगी. इसके बाद का फैसला संसद के बनाए कानून के अनुसार होगा.

सुनवाई के दौरान न्यायाधीश ने कहा कि केवल पाकिस्तान के राष्ट्रपति के पास ही यह शक्ति है कि वह आर्मी चीफ के कार्यकाल को बढ़ा सके. इसके जवाब में अटॉर्नी जनरल अनवर मंसूर खान ने अदालत को बताया कि राष्ट्रपति की मंजूरी के बाद ही सेनाप्रमुख का कार्यकाल बढ़ाया गया था, जिसके जवाब में पाकिस्तानी न्यायाधीश ने कहा कि कार्यकाल विस्तार को 25 कैबिनेट सदस्यों में से केवल 11 ने ही मंजूरी दी थी. उन्होंने आगे कहा कि मंत्रिमंडल के 14 सदस्‍य उपस्थित नहीं थे, इस वजह से उन्‍होंने कोई राय इस मुद्दे पर नहीं दी.

इमरान खान ने अगस्‍त 2019 में कमर जावेद बाजवा का कार्यकाल तीन साल के लिए बढ़ाया था. कश्‍मीर पर अच्‍छी पकड़ रखने की वजह से इमरान खान ने बाजवा का कार्यकाल बढ़ाया था. कमर जावेद बाजवा ने 29 नवंबर 2016 को पाक सेना की कमान संभाली थी.

Related Posts