भारत जो दशकों पहले कर चुका, अब उसी राह पर चला ब्रिटेन

ब्रिटेन ने भले ही अब जाकर किसी महिला को रक्षा मंत्री बनाया हो, पर भारत चार दशक पहले ही ऐसा कर चुका है.

नई दिल्‍ली: ब्रिटिश पीएम थिरेसा मे ने सेक्रेट्री ऑफ डिफेंस (रक्षा सच‍िव) गेविन विलियंसन को पद से बर्खास्‍त कर दिया है. उनकी जगह 46 साल की पेनी मोरडाउंट को रक्षा सचिव का कार्यभार सौंपा गया है. पेनी ब्रिटेन की पहली महिला रक्षा सचिव होंगी. मोरडाउंट सैन्‍य परिवार से आती हैं. पेनी खुद सैन्‍य बलों की मंत्री रह चुकी हैं और पोर्ट्समाउथ से सांसद हैं. ब्रिटेन में रक्षा सचिव ही रक्षा मंत्रालय का मुखिया होता है. ब्रिटेन ने भले ही एक महिला को रक्षा मंत्रालय की कमान अब सौंपी हो, पर भारत में दो महिलाएं नेतृत्‍व कर चुकी हैं.

साल 1975 में इंदिरा गांधी ने स्‍वर्ण सिंह को हटाकर रक्षा मंत्रालय का जिम्‍मा अपने हाथों में ले लिया था. इसके बाद 16 जनवरी 1980 से लेकर 15 जनवरी 1982 तक भी इंदिरा गांधी रक्षा मंत्री रहीं. दोनों ही अवसरों पर इंदिरा प्रधानमंत्री भी थीं और रक्षा मंत्रालय का अतिरिक्‍त कार्यभार देख रही थीं. भारत को पहली पूर्णकालिक महिला रक्षा मंत्री मिलीं 3 सितंबर 2017 को, जब निर्मला सीतारमण ने कामकाज संभाला.

क्‍यों हटाए गए गेविन विलियंसन

गेविन को शीर्षस्तर की राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद बैठक से एक जानकारी लीक होने के मामले की जांच के बाद बर्खास्त किया गया है. डाउनिंग स्ट्रीट ने कहा कि प्रधानमंत्री थेरेसा मे का उनकी क्षमताओं से विश्वास उठ गया है और अब उनके स्थान पर पेनी मोरडाउंट यह पद संभालेंगी. इंग्लैंड के नए 5जी नेटवर्क को बनाने में सहायता करने के लिए हुआवेई को सीमित एक्सेस की मंजूरी देने की योजना की रिपोर्ट्स आने के बाद जांच हुई थी.

साल 2017 से रक्षा सचिव के पद पर विलियंसन ने जानकारी लीक करने की बात को खारिज किया है. मे ने बुधवार शाम विलियंसन से मुलाकात कर उन्हें बताया कि उनके पास जानकारी है जिसमें पुख्ता सबूत हैं कि उस जानकारी को अनाधिकृत रूप से लीक करने के लिए वे जिम्मेदार हैं.

ये भी पढ़ें

नाराज़ यासिर अराफात ने क्यों फिदेल कास्त्रो से कहा था- इंदिरा गांधी मेरी बड़ी बहन

भारतीय प्रधानमंत्री ने ऐसा क्या किया था कि बिलबिलाए अमरीकियों ने कहा- बिच और बास्टर्ड