लाहौर: बच्चों के सामने विदेशी महिला से गैंगरेप, अधिकारी बोले- पीड़िता ने पाकिस्तान को समझ लिया था सुरक्षित

पाकिस्तान (Pakistan) के लाहौर में विदेशी महिला के साथ हुए गैंगरेप (gangrape) के बाद लोग लगातार प्रदर्शन कर रहे हैं. मामले के प्रमुख जांच अधिकारी ने घटना के लिए महिला को ही जिम्मेदार ठहराया, जिसके बाद लोग और भड़क गए.

बाराबंकी जिले के एक गांव में दलित लड़की के साथ रेप का मामला सामने आया है.

पाकिस्तान (Pakistan) में विदेशी महिला के साथ बच्चों के सामने हुए सामूहिक बलात्कार (Gang rape) के बाद लोगों का गुस्सा सड़कों पर उतर आया. घटना के बाद कई शहरों में जबरदस्त विरोध प्रदर्शन देखने को मिल रहा है. उधर मामले की जांच कर रहे एक अधिकारी ने पीड़ित महिला को ही घटना के लिए जिम्मेदार बताया, जिसके बाद लोगों का गुस्सा और भड़क गया. पुलिस ने इस मामले अब तक 15 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है. लाहौर समेत पाकिस्तान के अधिकतर शहरों में महिलाएं बड़ी संख्या में विरोध प्रदर्शन कर रहीं हैं.

पूरा मामला पाकिस्तान के लाहौर का बताया जा रहा है. पाकिस्तान की मीडिया रिपोर्ट के अनुसार फ्रांस की रहने वाली महिला गुरुवार को अपने दो बच्चों के साथ लाहौर से गुजरांवाला की ओर जा रही थी. तभी अचानक उसकी कार खराब हो गई. अंधेरी रात में महिला कार के भीतर बैठकर मदद आने का इंतजार करने लगी.

महिला ने अपनी रिपोर्ट में बताया कि कुछ लोग आए और कार की खिड़की का शीशा तोड़कर उसे बाहर खींच लिया. ये लोग पीड़िता को पास के एक खेत में खींचकर ले गए और उसके बच्चों के सामने ही उसके साथ सामूहिक बलात्कार किया. आरोपी पीड़िता के गहने, नकदी और तीन एटीएम कार्ड अपने साथ लेकर फरार हो गए.

“गिरफ्तार हुए लोगों का घटना से कोई संबंध नहीं”

पुलिस ने मामले में 15 लोगों को गिरफ्तार कर लिया है. न्यूज एजेंसी एपी ने बताया कि गिरफ्तार किए गए 15 लोगों का घटना से कोई संबंध नहीं है. वहीं मामले में चीफ इन्वेस्टिगेशन ऑफिसर उमर शेख के बयान के बाद लोगों का गुस्सा और ज्यादा भड़क गया, जिसके बाद सड़कों पर विरोध प्रदर्शन शुरू हो गए.

“विदेशी महिला ने पाकिस्तान को समझ लिया सुरक्षित”

उमर शेख ने अपने बयान में कहा कि पाकिस्तानी समाज में कोई भी अपनी बहन और बेटी को इतनी रात को अकेले यात्रा करने की अनुमति नहीं देगा. उन्हें सुरक्षित रास्ते का प्रयोग कर चाहिए और गाड़ी में पर्याप्त पेट्रोल भी भरवाना चाहिए. उन्होंने कहा कि महिला चूंकि फ्रांस की निवासी है. इसलिए उसने पाकिस्तान को सुरक्षित समझ लिया.

इस गैरजिम्मेदाराना बयान के बाद लोग सड़कों पर उतर आए और प्रदर्शन करने लगे. पक्ष और विपक्ष के कई नेता पुलिस के इस बयान की निंदा कर रहे हैं. पाकिस्तान के मानवाधिकार मंत्री शिरीन मजारी ने पुलिस के बयान को अस्वीकार्य करते हुए कहा कि कभी भी बलात्कार की घटना को तर्कसंगत नहीं बनाया जा सकता है.

Related Posts