बोरिस जॉनसन ने पीएम मोदी से की बात, कश्‍मीर पर US के बाद अब ब्रिटेन भी भारत के साथ

ब्रिटिश पीएम ने स्‍वतंत्रता दिवस के दिन लंदन स्थित भारतीय उच्‍चायोग के बाहर हुई हिंसा पर भी खेद जताया.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और ब्रिटिश पीएम बोरिस जॉनसन के बीच टेलीफोन पर बात हुई है. मंगलवार रात फोन पर जॉनसन ने मोदी के सामने यह साफ कर दिया कि कश्‍मीर भारत और पाकिस्‍तान के बीच का मामला है. बोरिस जॉनसन ने मोदी से बातचीत में दोनों देशों के बीच विवाद को बातचीत के जरिए शांतिपूर्ण ढंग से मसले सुलझाने की अपील की.

ब्रिटिश पीएम ने स्‍वतंत्रता दिवस के दिन लंदन स्थित भारतीय उच्‍चायोग के बाहर हुई हिंसा पर भी खेद जताया. दरअसल, बातचीत के दौरान पीएम मोदी ने उच्‍चायोग के बाहर हिंसा का जिक्र किया था. बोरिस जॉनसन ने मोदी को भरोसा दिलाया कि उच्‍चायोग की सुरक्षा सुनिश्चित करने को जरूरी कदम उठाए जाएंगे.

बोरिस जॉनसन के अलावा ट्रंप भी भारत के पक्ष में

अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने एक बार फिर कश्‍मीर पर मध्‍यस्‍थता की पेशकश की है. हालांकि इससे पहले वह साफ कर चुके थे कि इस विवाद को भारत और पाकिस्‍तान द्विपक्षीय रूप से सुलझाएं. NBC न्‍यूज के साथ इंटरव्‍यू में, राष्‍ट्रपति ट्रंप ने कहा, “मैं मध्‍यस्‍थता या जो भी बन पड़ेगा, करूंगा…”

अमेरिकी रक्षा सचिव मार्क टी. एस्पर ने भी मंगलवार को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से फोन पर बात की. उन्‍होंने कहा कि कश्मीर भारत का आंतरिक मामला है और भारत-पाकिस्तान के सभी मुद्दों को द्विपक्षीय रूप से निपटाने की आवश्यकता है. राजनाथ सिंह ने एस्पर को उनकी नियुक्ति पर बधाई देने के लिए टेलीफोन किया था, जिसके बाद बातचीत के दौरान उन्होंने यह बात कही.

जम्मू एवं कश्मीर को लेकर हुए नए हलात पर एस्पर ने भारत की स्थिति की तारीफ की और कहा कि राज्य से जुड़े सभी मुद्दे भारत का आंतरिक मामला है. राजनाथ सिंह ने सीमा पार आतंकवाद और क्षेत्र में शांति को लेकर किए जा रहे अमेरिकी प्रयासों की सराहना की.

ये भी पढ़ें

UNSC में मुंह की खाने के बाद कश्मीर मुद्दे को ICJ में उठाएगा पाकिस्तान

पहली बार दुनिया से गायब हुआ ग्लेशियर, किया गया अंतिम संस्कार, देखें तस्वीरें

भारत-पाक तनाव के बीच अमेरिका ने चीन को दी सख्त चेतावनी- पड़ोसियों को धमकाना बंद करो