ईस्टर्न इकॉनोमिक फोरम में बुलाना सम्मान की बात, रूसी राष्ट्रपति पुतिन से बोले पीएम मोदी

प्रधानमंत्री मोदी चार सितंबर को व्लादिवोस्तोक में रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के साथ 20 वीं वार्षिक द्विपक्षीय शिखर बैठक करेंगे.

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी बुधवार को तीन दिवसीय यात्रा पर रूस पहुंचे हैं. पीएम मोदी को व्लादिवोस्तोक पहुंचने पर गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया. इससे पहले प्रवासी भारतीयों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का ज़ोरदार स्वागत किया. व्लादिवोस्तोक में प्रतिनिधि-मंडल स्तर की बातचीत के बाद दोनों नेता मीडिया के सामने आए. इससे पहले भारत और रूस के बीच 13 समझौतों पर हस्ताक्षर हुए.

विदेश मंत्रालय की प्रेस वार्ता में कहा गया कि भारत-रूस के बीच द्विपक्षीय संबंधों के सभी मामलों के साथ अंतरराष्ट्रीय मुद्दों को लेकर बात हुई, 5 साल का रोडमैप तय किया गया, जिसमें दोनों मुल्कों में निवेश शामिल है:

# भारत और रूस का रिश्ता केवल राजधानियों तक सीमीत नहीं है. इस रिश्ते की मूल वजह लोग हैं- पीएम मोदी

# भारत में रूस के सहयोग से बन रहे न्यूक्लियर प्लांट्स के बढ़ते लोकलाइजेशन से इस क्षेत्र में भी हमारे बीच सही मायनों में भागेदारी विकसित हो रही है- पीएम मोदी

# पीएम मोदी ने ईस्टर्न इकॉनोमिक फोरम में आमंत्रण को लेकर ख़ुशी ज़ाहिर किया और कहा कि यह भारत के लिए सम्मान की बात है.

# व्लादिवोस्तोक में प्रतिनिधि-मंडल स्तर की बातचीत के बाद दोनों नेता मीडिया के सामने आए. इससे पहले भारत और रूस के बीच 13 समझौतों पर हस्ताक्षर हुए.

# रूस भारत का अभिन्न और विश्वसनीय दोस्त है. आपने व्यक्तिगत तौर पर दोनों देशों के बीच के विशेष और रणनीतिक संबंधों पर ध्यान केंद्रित किया है. अभिन्न मित्र होने के नाते हमलोगों ने लगातार मुलाक़ात की है. कई मुद्दों को लेकर मैनें आपसे फोन पर भी बात की है. मैनें आपसे बात करते हुए कभी भी झिझक महसूस नहीं की -पीएम मोदी

# आपने मुझे रूस के सर्वोच्च नागरिक सम्मान से नवाजने की घोषणा की है. मैं रूस की जनता और आपके प्रति आभार व्यक्त करता हूं. यद दोनों देशों के बीच के दोस्ताना व्यवहार को दर्शाता है. आपके द्वारा दिया गया सम्मान 130 करोड़ भारतीयों का सम्मान है-पीएम मोदी

# पीएम मोदी ने कहा कि ईस्टर्न इकॉनोमिक फोरम में मुझे बुलाना काफी सम्मान की बात है. भारत और रूस के बीच के संबंधों को नई दिशा देने का यह एक ऐतिहासिक मौक़ा है. मैं कल फोरम में हिस्सा लेने के लिए बेताब हूं.

# प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और रूस के राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन के बीच व्लादिवोस्तोक में प्रतिनिधि-मंडल स्तर की बातचीत हुई.

# माना जा रहा है कि इस यात्रा के दौरान दोनों देशों के बीच आपसी हितों से जुड़े क्षेत्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर चर्चा होगी. तेल और गैस क्षेत्र में गहरे सहयोग के लिए पांच वर्षीय खाका तैयार किए जाने की भी उम्मीद है.

विदेश सचिव विजय गोखले ने मोदी की यात्रा के संबंध में संवाददाताओं को जानकारी देते हुए बताया कि चेन्नई से व्लादिवोस्तोक को जोड़ने के लिए समुद्री मार्ग चालू करने की संभावना भी तलाश की जाएगी क्योंकि इससे आर्कटिक मार्ग के जरिए यूरोप भी जुड़ सकता है.

यात्रा शुरु होने से पहले मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि उनकी यह यात्रा दोनों देशों के द्विपक्षीय संबंधों को विविधता प्रदान करने और रिश्तों को और मजबूत बनाने की इच्छा को प्रदर्शित करती है. प्रधानमंत्री ने बुधवार से शुरू होने वाली अपनी दो दिवसीय यात्रा पर रवाना होने से पहले अपने बयान में कहा, ‘मैं अपने मित्र राष्ट्रपति पुतिन के साथ हमारे द्विपक्षीय संबंधों तथा आपसी हितों से संबंधित क्षेत्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय मुद्दों के सभी आयामों पर चर्चा को लेकर आशान्वित हूं.’

व्लादिवोस्तोक में मोदी 5वीं पूर्वी आर्थिक मंच की बैठक में राष्ट्रपति पुतिन के निमंत्रण पर मुख्य अतिथि के रूप में हिस्सा लेंगे.

बता दें कि मोदी की रूस के इस सुदूर पूर्वी क्षेत्र की यात्रा किसी भारतीय प्रधानमंत्री की पहली यात्रा है.

प्रधानमंत्री मोदी व्लादिवोस्तोक में रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के साथ 20 वीं वार्षिक द्विपक्षीय शिखर बैठक करेंगे. मोदी और पुतिन देश के एक प्रमुख पोत निर्माण यार्ड का भी संयुक्त दौरा करेंगे.

मोदी ने कहा, ‘मैं पूर्वी आर्थिक मंच की बैठक में हिस्सा लेने वाले वैश्विक नेताओं के साथ बैठक तथा इसमें हिस्सा लेने वाले भारतीय उद्योगों एवं कारोबारी प्रतिनिधियों से चर्चा के लिए भी उत्सुक हूं.’

उन्होंने कहा कि यह मंच रूस के सुदूर पूर्वी क्षेत्र में कारोबार एवं निवेश अवसरों के विकास पर जोर देने तथा इस क्षेत्र में भारत और रूस के बीच साझा लाभ के लिये सहयोग बढ़ाने का व्यापक अवसर प्रदान करता है.

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘हम दोनों देशों के बीच शानदार संबंध हैं जो हमारे विशेष एवं विशिष्ट सामरिक संबंधों से जुड़े मजबूत आधार पर हैं. दोनों देशों के बीच रक्षा, असैन्य परमाणु ऊर्जा, अंतरिक्ष के शांतिपूर्ण उपयोग जैसे सामरिक क्षेत्रों में व्यापक सहयोग हैं. हमारे बीच कारोबार एवं निवेश के क्षेत्र में गहरे संबंध है.’

मोदी ने कहा कि हमारी मजबूत साझेदारी एक बहु ध्रवीय विश्व बनाने की इच्छा से पूरित है और दोनों देश इसे हासिल करने में सहयोग दे रहे हैं.

मोदी ने कई ट्वीट करके कहा कि सांस्कृतिक सहयोग बढ़ाने के प्रयासों के तहत महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर एक विशेष टिकट जारी किया जाएगा.

उन्होंने कहा, ‘योग को लोकप्रिय बनाने के लिए एक नवोन्मेशी ऐप की शुरुआत की जाएगी. मैं उम्मीद करता हूं कि बड़ी संख्या में रूसी भाई एवं बहनें योग को अपनी दिनचर्या का अभिन्न हिस्सा बनाएंगे.’

अपनी यात्रा में मोदी ज्वेज्दा पोत निर्माण परिसर भी जाएंगे.