• Home  »  दुनिया   »   ईरान के राष्ट्रपति ने कहा, अमेरिकी प्रतिबंधों के कारण देश को हुआ 150 बिलियन डॉलर का घाटा

ईरान के राष्ट्रपति ने कहा, अमेरिकी प्रतिबंधों के कारण देश को हुआ 150 बिलियन डॉलर का घाटा

ईरान (Iran) की अर्थव्यवस्था उसके कच्चे तेल के आयात पर निर्भर करती है. मई 2018 में बहुपक्षीय समझौते से अमेरिका के निकलने के बाद यह 10 प्रतिशत से भी कम पर पहुंच गई है.

  • TV9 Hindi
  • Publish Date - 5:16 pm, Sat, 26 September 20

अमेरिका के प्रतिबंधों के कारण ईरान (Iran) को 150 बिलियन डॉलर का नुकसान हुआ है. ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी (Hassan Rouhani) ने कहा कि 2015 की न्यूक्लियर डील को डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने खत्म कर दिया और उनकी अर्थव्यवस्था पर प्रतिबंध लगा दिया. इस कारण से ईरान की अर्थव्यवस्था को 150 बिलियन डॉलर का घाटा हुआ है.

रूहानी ने टेलीविजन पर शनिवार को एक बयान में कहा कि अमेरिकी प्रतिबंधों से देश में चिकित्सा और खाद्य आपूर्ति के आयात में बाधा आ रही है. पिछले दो सालों में ईरान की अर्थव्यवस्था डूबने की कगार पर पहुंच गई है. महंगाई और बेरोजगारी लगातार बढ़ती जा रही है.

यह भी पढ़ें- यूक्रेन में एयरफोर्स का विमान हादसे का शिकार, 22 लोगों की मौत- 2 लापता

ईरान की अर्थव्यवस्था उसके कच्चे तेल के आयात पर निर्भर करती है. मई 2018 में बहुपक्षीय समझौते से अमेरिका के निकलने के बाद यह 10 प्रतिशत से भी कम पर पहुंच गई है.

देश की समस्याओं के लिए व्हाइट हाउस जिम्मेदार

रूहानी ने आगे कहा कि अगर जनता किसी को बुरा भला कहना चाहती है तो वह व्हाइट हाउस को कहे, क्योंकि देश में समस्या के लिए वही जिम्मेदार है.

यह भी पढ़ें- जॉनसन एंड जॉनसन कोरोना वैक्सीन के शुरुआती नतीजे, मजबूत इम्यून के लिए एक खुराक काफी

अमेरिका और ईरान के बीच संबंध 1979 की इस्लामिक क्रांति के बाद से सबसे खराब रहे हैं और पिछले दो सालों में ट्रम्प द्वारा परमाणु समझौते से हटने और जनवरी में शीर्ष ईरानी जनरल कासिम सोलेमानी की हत्या के बाद से स्थिति और गंभीर हो गई है.