फोन पर फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने पीएम मोदी से की बात, कश्मीर मसले पर हुई चर्चा

फ्रांस की तरफ से जारी बयान में कहा गया, मैक्रों और मोदी ने मध्य पूर्व में डी-एस्केलेशन की आवश्यकता पर अपने साझा विचार व्यक्त किए और तनाव कम करने की दिशा में एक साथ काम करने पर सहमति व्यक्त की.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों से फोन पर बातचीत की. इस दौरान दोनों नेताओं ने दोनों देशों से जुड़े कई द्विपक्षीय मुद्दों के साथ ही क्षेत्रीय और वैश्विक स्थिति पर चर्चा की. फोन पर हुई बातचीत में कश्मीर का मुद्दा भी उठा, जिस पर मैक्रों ने कहा कि फ्रांस कश्मीर मसले पर नजदीकी से नजर रख रहा है. लेकिन भारतीय बयान में कश्मीर मुद्दे का कोई जिक्र नहीं था.

प्रधानमंत्री कार्यालय द्वारा जारी बयान में कहा गया कि दोनों नेताओं ने द्विपक्षीय मुद्दों के साथ ही क्षेत्रीय और वैश्विक स्थिति पर चर्चा की. सरकार ने पिछले हफ्ते 16 विदेशी राजनयिकों  को जम्मू कश्मीर का दौरा कराया था. विदेश मंत्रालय की तरफ से कहा गया कि इस दौरे का मकसद था कि आर्टिकल 370 के रद्द होने के बाद  क्षेत्र में स्थिति समान्य बनाने के लिए किए जा रहे प्रयासों को दिखा सकें.

हालांकि फ्रांस की तरफ से जारी बयान में कहा गया, मैक्रों और मोदी ने  मध्य पूर्व में डी-एस्केलेशन की आवश्यकता पर अपने साझा विचार व्यक्त किए और पार्टियों ने संयम और जिम्मेदारी दिखाने के लिए तनाव कम करने की दिशा में एक साथ काम करने पर सहमति व्यक्त की.

मैक्रों और मोदी ने सैन्य और असैन्य परमाणु क्षेत्रों में द्विपक्षीय साझेदारी को मजबूत करने और  इंडो-पैसिफिक में परिचालन सहयोग को बढ़ाने पर भी दिलचस्पी दिखाई. साथ ही दोनों नेताओं ने द्विपक्षीय संबंधों के साथ-साथ क्षेत्रीय और वैश्विक स्थितियों में आपसी हित के मुद्दों पर विचारों का आदान-प्रदान किया.

ये भी पढ़ें-    उन्नाव रेप केस: सुनवाई से पहले पीड़िता के पिता का इलाज करने वाले डॉक्टर की संदिग्ध मौत

 नुस्ली वाडिया ने मानी कोर्ट की सलाह, रतन टाटा के खिलाफ वापस लिया केस