पाकिस्तान में आम लोगों को रुला रहे टमाटर, कीमत 400 रुपये प्रति किलो

एक रिपोर्ट में बताया गया है कि कराची में सोमवार को टमाटर तीन सौ रुपये प्रति किलो बिका. मंगलवार को इसकी कीमत बढ़कर चार सौ रुपये किलो हो गई.

पाकिस्तान में महंगाई लगातार अपना ही रिकार्ड तोड़ रही है. रोजमर्रा की चीजों की आसमान छूती कीमतों के बीच अब इस आशय की रिपोर्ट आई हैं कि देश में ऐसी भी जगहें हैं जहां एक किलो टमाटर की कीमत चार सौ (पाकिस्तानी) रुपये तक पहुंच गई है. पाकिस्तान में सब्जियों के दाम, विशेषकर टमाटर के दाम बीते कई दिनों से आम लोगों को रुला रहे हैं.

स्थिति को संभालने के लिए पाकिस्तान सरकार ने ईरान से टमाटर का आयात किया लेकिन ईरानी टमाटर बाजार में पहुंच नहीं पाने की वजह से मंडियों में न केवल इसकी कीमत में कोई कमी नहीं आ सकी बल्कि मांग की तुलना में आपूर्ति कम होने के कारण इसकी कीमत चार सौ रुपये किलो तक पहुंच गई.

‘डॉन’ की रिपोर्ट में बताया गया है कि कराची में सोमवार को टमाटर तीन सौ रुपये प्रति किलो बिका. मंगलवार को इसकी कीमत बढ़कर चार सौ रुपये किलो हो गई.

रिपोर्ट में कहा गया है कि अतीत की तरह स्थानीय प्रशासन ने एक बार फिर टमाटर के इस खुदरा मूल्य से इनकार करते हुए कहा कि मंगलवार को एक किलो टमाटर 253 रुपये में बिका. हालांकि, प्रशासन ने यह जरूर माना कि सोमवार की तुलना में मंगलवार को टमाटर की कीमत में 50 रुपये प्रति किलो से अधिक की वृद्धि हुई.

एक व्यापारी ने कहा कि सरकार ने ईरान से साढ़े चार हजार टन टमाटर आयात करने का परमिट जारी किया था लेकिन अभी 989 टन ही पाकिस्तान पहुंच सका है.

कराची के थोक सब्जी विक्रेता संघ ने कहा है कि सरकार ने खुले बाजार की नीति का पालन करने के बजाए कुछ व्यापारियों को ही ईरान से टमाटर मंगाने की अनुमति दी है. इसका नतीजा यह हुआ कि सीमित मात्रा में बुक किए गए टमाटर सीमा पर ही बेच दिए गए. खुले बाजार की नीति के तहत अगर टमाटर का आयात होता तो स्थिति में सुधार होता. सरकार की नीति के कारण आयातित टमाटर पर कुछ कारोबारियों का एकाधिकार हो गया है.