चीन ने कब्जाई जमीन, गुस्साए नेपाल के लोगों का चीनी दूतावास के बाहर प्रदर्शन

नेपाल में चीनी दूतावास के बाहर प्रदर्शन (Protest against China in Nepal) हुआ. यह प्रदर्शन चीन के खिलाफ भूमि अतिक्रमण को लेकर किया गया है.

  • TV9 Digital
  • Publish Date - 7:46 am, Thu, 24 September 20
Protest against China in Nepal

नेपाल सरकार भले चीन को दोस्त मानकर उसकी हरकतों को नजरअंदाज कर दे लेकिन वहां के नागरिकों में चीन के लिए गुस्सा साफ देखा जा सकता है. बुधवार को भी नेपाल में चीनी दूतावास के बाहर प्रदर्शन (Protest against China in Nepal) हुआ. यह प्रदर्शन चीन के खिलाफ भूमि अतिक्रमण को लेकर हुआ.

नेपाल में यह प्रदर्शन (Protest against China in Nepal) एक सिविल सोसायटी समूह ने किया. उनका आरोप है कि हुमला जिले में चीन जमीन कब्जा करके इमारतें बना रहा है. समूह के कार्यकर्ताओं ने ‘नेपाल की जमीन वापस लौटाओ’ और ‘चीन का विस्तारवाद बंद करो’ जैसे नारे लगाए.

पढ़ें – अमेरिका के प्रतिबंधों को धोखा देने के लिए कैसे चीन और ईरान की मदद कर रहा है नेपाल

चीन ने तिब्बत सीमा से लगे नेपाल के हुमला जिले में कथित रूप से 11 इमारत बनाई हैं. यह विवादित जगह हुमला जिले में नमखा ग्रामीण नगरपालिका के लंपचा गांव में आती है.

चीन ने क्या दी सफाई, बातचीत करने गए नेपाल के लोगों को लौटाया

एक तरफ चीन ने कहा है कि उसने सीमा पर अपनी तरफ इन इमारतों का निर्माण किया है. वहीं दूसरी तरफ यह भी सामने आया है कि नेपाल-चीन सीमा का निर्धारण करने वाला पिलर नंबर-11 वहां नहीं है.

पढ़ें – नेपाल को नहीं लगी भनक! दोस्ती निभाते-निभाते चीन ने हड़प लिया एक और हिस्सा

हुमला से सांसद चक्का बहादुर लामा ने कहा कि जब तक दोनों पक्ष नदारद पिलर का पता नहीं लगा लेते, तब तक विवाद जारी रहेगा. समाचार पत्र ‘माय रिपब्लिका’ की खबर में कहा गया है कि मंगलवार को मुख्य जिला अधिकारी के नेतृत्व में नेपाल का एक प्रतिनिधिमंडल चीनी अधिकारियों से बात करने उस इलाके में गया, लेकिन चीनी सुरक्षा अधिकारियों ने यह कहते हुए उन्हें वापस लौटा दिया कि यह जमीन सीमा पर चीन की तरफ आती है.