पाकिस्तानी मूल के प्रदर्शनकारियों ने लंदन में भारतीय उच्चायोग पर फेंके अंडे, पत्थर

यह दूसरी बार है जब पाकिस्तानी प्रदर्शनकारियों ने लंदन स्थित भारतीय उच्चायोग को निशाना बनाया है.

नई दिल्ली: पाकिस्तानी प्रदर्शनकारियों ने लंदन में भारतीय उच्चायोग को निशाना बनाया है. भारतीय उच्चायोग ने बिल्डिंग परिसर में हुए नुकसानों की तस्वीर ट्वीट की है जिसमें खिड़की की टूटी हुई कांच दिख रही है. प्रदर्शनकारियों ने भारतीय उच्चायोग की बिल्डिंग पर अंडे, टमाटर, जूते, पत्थर, स्मोक बम और बोतल फेंके जिसमें बिल्डिंग की कई खिड़कियों को नुकसान पहुंचा है. मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया गया है कि इंग्लैंड के क़रीब 10 हजार ब्रिटिश पाकिस्तानियों का झुंड लंदन स्थित भारतीय उच्चायोग की बिल्डिंग की खिड़कियों को तोड़ने के लिए आगे बढ़ा.

यह प्रदर्शन मार्च पार्लियामेंट स्क्वेयर से शुरू हुआ और भारतीय उच्चायोग की बिल्डिंग तक पहुंचा. मार्च का नेतृत्व यूके की लेबर पार्टी के कुछ सांसदों ने किया. प्रदर्शनकारियों के हाथ में पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (पीओके) का झंडा और प्लेकार्ड था. पाकिस्तानी उपद्रवियों ने अपने इस विरोध प्रदर्शन को ‘कश्मीर फ्रीडम मार्च’ का नाम दिया.

गौरतलब है कि यह दूसरी बार है जब पाकिस्तानी प्रदर्शनकारियों ने लंदन स्थित भारतीय उच्चायोग को निशाना बनाया है. इससे पहले उनलोगों ने 15 अगस्त के मौके पर प्रदर्शन किया था. उस समय उनके हाथों में खालिस्तानी और कश्मीरी झंडे थे. वहां उच्चायोग के सामने भारतीय मूल के नागरिक शांतिपूर्वक स्वतंत्रता दिवस मना रहे थे जिनको प्रदर्शनकारियों ने निशाना बनाया था. उपद्रवियों और गुंडों की उस भीड़ में मुख्य रूप से ब्रिटिश पाकिस्तानी, पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर के ब्रिटिश नागरिक और खालिस्तान समर्थक सिख शामिल थे.

उनलोगों ने स्वतंत्रता दिवस मनाने के लिए जमा हुए भारतीय मूल के ब्रिटिश नागरिकों पर अंडे, बोतल, जूते और अन्य सामान फेंके थे. उपद्रवियों के हमले से बचने के लिए महिला और बच्चों समेत कई लोगों को बिल्डिंग में शरण लेनी पड़ी था. बाद में दंगा रोधी पुलिस घटनास्थल पर पहुंची थी और उनको सुरक्षा मुहैया कराया था.