US State Department on MissionShakti, अमेरिका ने दोबारा क्यों कहा, अंतरिक्ष में भारत के साथ बढ़ेगा सहयोग?
US State Department on MissionShakti, अमेरिका ने दोबारा क्यों कहा, अंतरिक्ष में भारत के साथ बढ़ेगा सहयोग?

अमेरिका ने दोबारा क्यों कहा, अंतरिक्ष में भारत के साथ बढ़ेगा सहयोग?

मिशन शक्ति को लेकर पालाडिनो ने कहा, जहां तक मलवा का मुद्दा है वो अमेरिका के लिए काफी महत्वपूर्ण है. हमनें इस मामले में भारत सरकार के बयान को सुना है.
US State Department on MissionShakti, अमेरिका ने दोबारा क्यों कहा, अंतरिक्ष में भारत के साथ बढ़ेगा सहयोग?

नई दिल्ली: ‘मिशन शक्ति’ पर NASA के ‘बेहद भयानक’ वाले बयान के बाद अमेरिका ने एक बार फिर से भारत के साथ सामरिक भागीदारी मज़बूत करने की बात कही है.

अमेरिकी विदेश मंत्रालय के उपप्रवक्ता आर पालाडिनो ने कहा, “जैसा कि हमने पहले भी कहा है. भारत के साथ अमेरिका की मज़बूत सामरिक भागीदारी है, जिसे हम स्पेस, विज्ञान और तकनीक के मामले में भी जारी रखेंगे.’

वहीं मिशन शक्ति को लेकर पालाडिनो ने कहा, ‘जहां तक मलवा का मुद्दा है वो अमेरिका के लिए काफी महत्वपूर्ण है. हमनें इस मामले में भारत सरकार के बयान को सुना है. जिसमें उन्होंने कहा कि परीक्षण अंतरिक्ष मलबे के मुद्दों को हल करने पर भी केंद्रित था.’

इससे पहले NASA प्रमुख जिम ब्रिडेनस्टाइन ने सोमवार को कर्मचारियों को संबोधित करते हुए कहा कि भारत द्वारा पांच दिन पहले किए गए टेस्ट की वजह से स्पेस स्टेशन में मलबा बढ़ा है जो आनेवाले दिनों में यात्रियों के लिए नया ख़तरा पैदा करेगा.

नासा चीफ ने कहा, ‘यह भयानक, बेहद भयानक है. ऐसी गतिविधियों की वजह से भविष्य में मानव को अंतरिक्ष में भेजना मुश्किल हो जाएगा.’

ब्रिडेनस्टाइन के मुताबिक, सभी टुकड़ों को ट्रैक नहीं किया जा सकता है क्योंकि ज्यादातर आकार में छोटे हैं.

उन्होंने कहा, ‘हमारी नजर उसपर है. बड़े टुकड़े ट्रैक हो रहे हैं. अबतक 60 टुकड़े  ऐसे मिले हैं जो 10 सेंटीमीटर (6 इंच) से ज़्यादा बड़े हैं. यह टेस्ट आईएसएस समेत कक्षा में मौजूद बाकी सभी सैटलाइट से नीचे किया गया था लेकिन अब इसके करीब 24 टुकड़े इंटरनैशनल स्पेस स्टेशन के ऊपर चले गए हैं.’

बता दें कि पिछले हफ़्ते ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्र के नाम संबोधन में ‘मिशन शक्ति’ के बारे में बताया था. पीएम के मुताबिक भारत ने पृथ्वी की निचली कक्षा में 300 किलोमीटर की रेंज पर मौजूद एक सैटलाइट को मार गिराया.

US State Department on MissionShakti, अमेरिका ने दोबारा क्यों कहा, अंतरिक्ष में भारत के साथ बढ़ेगा सहयोग?
US State Department on MissionShakti, अमेरिका ने दोबारा क्यों कहा, अंतरिक्ष में भारत के साथ बढ़ेगा सहयोग?

Related Posts

US State Department on MissionShakti, अमेरिका ने दोबारा क्यों कहा, अंतरिक्ष में भारत के साथ बढ़ेगा सहयोग?
US State Department on MissionShakti, अमेरिका ने दोबारा क्यों कहा, अंतरिक्ष में भारत के साथ बढ़ेगा सहयोग?