स्पुतनिक-5 के बाद रूस ने एक और कोविड-19 वैक्सीन को मंजूरी दी : पुतिन

रेगुलेटरी एप्रूवल हासिल करने के लिए दूसरी रूसी वैक्सीन वेक्टर स्टेट रिसर्च सेंटर ऑफ वायरोलॉजी एंड बायोटेक्नोलॉजी की ओर से विकसित की गई है. वेक्टर की इस वैक्सीन को ‘एपीवैककोरोना’ नाम दिया गया है, जो कि एक पेप्टाइड-आधारित वैक्सीन है.

  • TV9 Hindi
  • Publish Date - 11:51 pm, Wed, 14 October 20

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने बुधवार को घोषणा की है कि उन्होंने दूसरी कोविड-19 वैक्सीन को रजिस्टर्ड किया है. मीडिया रिपोर्ट्स में बुधवार को ये जानकारी दी गई. रूस अगस्त में एक कोविड-19 वैक्सीन को नियामक स्वीकृति देने वाला पहला देश बना था, जब स्पुतनिक-5 वैक्सीन का आधिकारिक तौर पर रजिस्ट्रेशन किया गया था. हालांकि वैज्ञानिक समुदाय में से कुछ लोगों ने इसे जल्दबाजी में उतारी गई वैक्सीन बताते हुए इसकी आलोचना भी की थी.

रेगुलेटरी एप्रूवल हासिल करने के लिए दूसरी रूसी वैक्सीन वेक्टर स्टेट रिसर्च सेंटर ऑफ वायरोलॉजी एंड बायोटेक्नोलॉजी की ओर से विकसित की गई है. वेक्टर की इस वैक्सीन को ‘एपीवैककोरोना’ नाम दिया गया है, जो कि एक पेप्टाइड-आधारित वैक्सीन है.

कोरोना वैक्सीन: सुरक्षा कारणों के चलते 24 घंटे में दूसरी दवा के ट्रायल पर लगी रोक

स्पूतनिक न्यूज एंजेसी की रिपोर्ट के अनुसार, पुतिन ने बताया कि चुमकोव केंद्र की ओर से विकसित कोविड-19 के खिलाफ तीसरी रूसी वैक्सीन भी निकट भविष्य में भी रजिस्टर की जाएगी. रिपोर्ट में कहा गया है कि रूसी उप प्रधानमंत्री तात्याना गोलिकोवा ने कहा कि वह खुद ‘एपीवैककोरोना’ वैक्सीन के परीक्षण से गुजरी हैं और उन्हें इसके किसी भी दुष्परिणाम (साइड इफेक्ट) का अनुभव नहीं हुआ है.

जॉन्स हॉपकिंस यूनिवर्सिटी के मुताबिक रूस कोरोना से सबसे ज्यादा संक्रमित देशों की लिस्ट में चौथे नंबर पर है. रूस में 13 लाख से ज्यादा लोग कोरोनावायरस से संक्रमित हो चुके हैं और इनमें से 23 हजार से ज्यादा लोग अपनी जान गंवा चुके हैं.

दूसरे विश्व युद्ध में गिराया गया था बम, डिफ्यूज करते समय हुआ धमाका, जानें क्या हुआ उसके बाद