रूसी राष्ट्रपति पुतिन की कथित गर्लफ्रेंड ने जुड़वा बच्चों को दिया जन्म

डेली मेल ने सूत्रों के हवाले से बताया है कि कबायेवा ने जुड़वा बच्चों को जन्म दिया है. इसमें कहा गया है कि सिजेरियन डिलिवरी में इटली के डॉक्टर ने मदद की थी.

नई दिल्ली: रूसी राष्‍ट्रपति व्‍लादिमीर पुतिन की कथित प्रेमिका एलीना कबायेवा ने जुड़वा बच्‍चों को जन्‍म दिया है. न्‍यूयार्क पोस्‍ट में इसे लेकर एक खबर छपी है. वहीं, रूस के एक अखबार ने का दावा है कि 36 वर्षीय कबायेवा की वजह से ही कुलाकोव के अस्पताल के वीआईपी फ्लोर को खाली कराया गया था. हालांकि बच्चों के जन्म के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं दी गई है.

डेली मेल ने सूत्रों के हवाले से बताया है कि कबायेवा ने जुड़वा बच्चों को जन्म दिया है. इसमें कहा गया है कि सिजेरियन डिलिवरी में इटली के डॉक्टर ने मदद की थी. हालांकि रूसी क्रेमलिन की ओर से इस खबर को पूरी तरह से खारिज कर दिया गया है.

मालूम हो कि ‘वॉइस ऑफ अमेरिका’ के अनुसार साल 2008 में भी इसी तरह की एक अफवाह उड़ी थी. ऐसा कहा जा रहा था कि कबायेवा ने निजी स्विस क्लीनिक में एक बेटी को जन्म दिया था. लेकिन ये खबर झूठ साबित हुई.

ओलंपिक गोल्‍ड मेडलिस्ट हैं कबायेवा
बता दें कि पुतिन की कथित प्रेमिका एलीना कबायेवा ओलंपिक की गोल्‍ड मेडलिस्ट हैं. वो एक बेहतरीन जिमनास्ट रही हैं. पुतिन और कबायेवा के बीच रिश्‍ते को लेकर लंबे अरसे से खबरें आती रही हैं. कबायेवा ने खेल जगत से दूर होने के बाद मॉडलिंग की दुनिया में कदम रखा था.

कबायेवा राष्‍ट्रपति पुतिन से 30 साल छोटी हैं. उन्हें ‘द सीक्रेट फर्स्ट लेडी’ के निकनेम से जाना जाता है. वह 2014 तक सांसद भी रही हैं. फिलहाल वो एक नेशनल मीडिया ग्रुप की प्रमुख हैं. पुतिन कबायेवा के साथ अपने रिश्ते को लेकर इनकार करते रहे हैं.

30 साल बाद टूट गई थी शादी
राष्ट्रपति पुतिन ने साल 1983 में ल्यूडमिला पुतिना से शादी की थी. वो कई भाषाओं की जानकार महिला थीं. पुतिन और ल्यूडमिला की शादी 30 साल तक चली थी. साल 2013 में इनका तलाक हो गया. ल्यूडमिला से उनकी दो बेटियां हैं. उनकी दोनों बेटियां कैटरीना और मारिया राजनीति से दूर रहती हैं.

ये भी पढ़ें-

15 साल से अकेला ही लड़ रहा मेरा भाई, सीनियर नेता बाहर करते हैं बुराई: CWC में बोलीं प्रियंका

कांग्रेस के हत्यारे इसी कमरे में मौजूद, चुनाव में सपने टूटने पर CWC की मीटिंग में बोलीं प्रियंका

जितना वोट पड़ा, कहीं ज्यादा गिना गया, कहीं कम, आखिर ये कैसे हुआ? संजय सिंह का सवाल