कश्मीर राग अलापने पर थरूर ने एशियाई पार्ल्यामेंट्री असेंबली में लगाई पाकिस्तान की क्लास

इस बार उन्होंने पाकिस्तान को एशियाई पार्ल्यामेंट्री असेंबली की बैठक में कश्मीर मसला उठाने को लेकर घेरा है. यह बैठक सर्बीया में हो रही है.

कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता शशि थरूर ने कश्मीर मसले को लेकर एक बार फिर पाकिस्तान पर हमला बोला है. इस बार उन्होंने पाकिस्तान को एशियाई पार्ल्यामेंट्री असेंबली की बैठक में कश्मीर मसला उठाने को लेकर घेरा है. यह बैठक सर्बीया में हो रही है, जिसमें पाकिस्तान ने कहा कि वह जम्मू कश्मीर के ताजा हालातों के चलते इस बैठक का आयोजन अपने वहां नहीं करवा सकता.

इस बयान को लेकर पाकिस्तान को लताड़ लगाते हुए थरूर ने कहा कि पाकिस्तान भारत के आंतरिक मसले को उठाकर इस मंच को राजननीतिकरण कर रहा है. मालूम हो कि 13 से 17 अक्टूबर के बीच सर्बीया की राजधानी बेलग्रेड में इंटर-पार्ल्यामेंट्री यूनियन की सालाना बैठक का आयोजन किया जा रहा है, इसी बैठक के इतर एशियन पार्ल्यामेंट्री यूनियन ने भी एक बैठक की.

पाकिस्तान ने इस फोरम को पत्र के जरिए बताया कि जम्मू कश्मीर के ताजा हालातों के चलते दिसंबर 2019 में होने वाली इस यूनियन की बैठक का वह आयोजन नहीं करा सकता. इस पत्र को लेकर पाकिस्तान को लताड़ने वाले थरूर ने उसके इस कदम की कड़ी निंदा की है. उन्होंने पाकिस्तानी सीनेट के अध्यक्ष पर निशाना साधते हुए कहा कि वह भारत के आंतरिक मामले का जिक्र करते हुए एपीए का गैर जरूरी राजनीतिकरण कर रहे हैं.

इसी के साथ थरूर ने दो टूक कहा कि जम्मू कश्मीर भारत का अटूट अंग है. उन्होंने कहा कि “जम्मू कश्मीर में ऐसे हालात नहीं हैं जिनसे इस्लामाबाद तो छोड़ो, उनके देश में कहीं भी आम जनजीवन या कामकाज पर कोई भी फर्क पड़े.” थरूर ने कहा कि भारत के आंतरिक मामलों का असर बॉर्डर पर नहीं होत और न ही हम अपने पड़ोसियों को परेशान करते हैं.

यूपीए के कार्यकाल में केंद्रीय मंत्री रहे शशि थरूर ने कहा कि इन हालातों में पाकिस्तानी सीनेट के अध्यक्ष को लगता है कि यह सभा दिसंबर में होने वाली अपनी बैठक के आयोजन में अक्षम और अनिच्छुक पाकिस्तान की बहानेबाजी को मान ले. ये बहुत ही दुर्भाग्य की बात है. मालूम हो कि पाकिस्तान जम्मू कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाए जाने के बाद से लगातार भारत को अंतरराष्ट्रीय मंचों पर बदनाम करने की कोशिश कर रहा है.

ये भी पढ़ें- पाखंडी इमरान: कश्मीर को लेकर भारत पर हमला और मुस्लिम कुर्दों पर तुर्की हमले का समर्थन