साउथ कोरिया का दावा, पानी के अंदर बैलिस्टिक मिसाइल का टेस्ट कर सकता है किम जोंग उन

पिछले कुछ सालों से उत्तर कोरिया (North Korea) पनडुब्बियों से मिसाइल लॉन्च करने की क्षमता हासिल करने के लिए कड़ी मेहनत कर रहा है. विशेषज्ञों का कहना है कि यह एक चिंताजनक बात है, क्योंकि लॉन्च से पहले ऐसे हथियारों का पता लगाना मुश्किल है.

उत्तर कोरिया और अमेरिका के बीच लंबे समय से रुकी हुई परमाणु बातचीत के बीच दक्षिण कोरिया (South Korea) ने कहा कि नॉर्थ कोरिया जल्द ही एक साल के भीतर अपनी पहली पानी के अंदर बैलिस्टिक मिसाइल का परीक्षण कर सकता है.

दक्षिण कोरिया के ज्वाइंट चीफ्स ऑफ स्टाफ के चेयरमैन के लिए चुने गए वोन इन-चाउल ने इसकी पुष्टि की है. सांसदों को लिखित एक बयान में वोन ने कहा कि उत्तर कोरिया (North Korea) हाल ही में तूफान के कारण क्षतिग्रस्त हुए अपने पूर्वोत्तर सिनपोयार्ड की मरम्मत कर रहा है, जहां वो पनडुब्बियों का निर्माण करता है.

वोन ने कहा कि मरम्मत पूरी होने के तुरंत बाद, एक मौका है कि यह एक सबमरीन-लॉन्च बैलिस्टिक मिसाइल परीक्षण करेगा. उन्होंने यह भी कहा कि दक्षिण कोरिया की सेना वहां के घटनाक्रम पर कड़ी नजर रख रही है.

कई सालों से तैयारी में लगा नॉर्थ कोरिया

पिछले कुछ सालों से उत्तर कोरिया पनडुब्बियों से मिसाइल लॉन्च करने की क्षमता हासिल करने के लिए कड़ी मेहनत कर रहा है. विशेषज्ञों का कहना है कि यह एक चिंताजनक बात है, क्योंकि लॉन्च से पहले ऐसे हथियारों का पता लगाना मुश्किल है.

मालूम हो कि इसी तरह एक परीक्षण उत्तर कोरिया पिछले साल अक्टूबर में कर चुका है, जो कि तीन साल में इस तरह का पहला परीक्षण था. साथ ही 2018 के बाद अमेरिका के साथ परमाणु बातचीत शुरू करने के बाद से सबसे घातक हथियारों का परीक्षण है.

“अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव के बाद हो सकता है परीक्षण”

सियोल में प्राइवेट कोरिया डिफेंस स्टडी फोरम के प्रमुख जुंग चांगवुक ने कहा कि उत्तर कोरिया नवंबर की शुरुआत में अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव के बाद अपनी परमाणु हमले की क्षमता को बढ़ाने के लिए पनडुब्बी से लॉन्च की जाने वाली बैलिस्टिक मिसाइल या SLBM का परीक्षण कर सकता है और वाशिंगटन पर दबाव बना सकता है.

साथी ही ऐसी अटकलें भी हैं कि उत्तर कोरिया 10 अक्टूबर को अपनी सत्तारूढ़ वर्कर्स पार्टी की स्थापना की सालगिरह से पहले इस तरह की मिसाइल का परीक्षण कर सकता है. जंग ने जोर देकर कहा कि यह संभव है, लेकिन उत्तर कोरिया अपने राज्य की सालगिरह का जश्न मनाने के बजाय अमेरिका पर दबाव बनाने के लिए ज्यादा बेताब होगा.

कई संकटों से जूझ रहा नॉर्थ कोरिया

वहीं कुछ विशेषज्ञों का कहना है कि यह संभावना नहीं है कि उत्तर कोरिया जल्द ही किसी बड़े हथियार का परीक्षण करेगा, क्योंकि यह कई संकटों से जूझ रहा है, जिसमें ताफून से क्षति, कोरोनोवायरस महामारी शामिल हैं, जिसके कारण उसने अपने सबसे बड़े सहयोगी और अमेरिकी प्रतिबंधों के सबसे बड़े विरोधी चीन के साथ अपनी सीमा को बंद कर दिया है.

Related Posts